BREAKING NEWS

Politics (राजनीति)

Sports (खेल-खिलाड़ी)

International (अंतरराष्ट्रीय)

Wednesday, 18 October 2017

नौटंकी करने से अच्छा है , केजरीवाल जी पार्किंग में खड़ी किया करें गाड़ी : अनिल बैजल (उपराज्यपाल)






दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की कार चोरी होने पर उन्हें ही फटकार लगाई है. पुलिस रिपोर्ट का हवाला देते हुए बैजल ने केजरीवाल को कहा है कि उन्होंने गाड़ी को पार्किंग एरिया में पार्क नहीं किया था.




उपराज्यपाल ने लिखा कि जब उन्हें गाड़ी चोरी होने की सूचना मिली थी, तभी उन्होंने कमिश्नर को जांच के आदेश दिए थे. बैजल ने केजरीवाल से कहा कि उनकी गाड़ी कार पार्किंग से 100 मीटर की दूरी पर क्यों खड़ी थी, ना ही उसमें कोई सुरक्षा उपकरण नहीं लगा था.
गाड़ी चोरी होने के बाद अरविंद केजरीवाल ने LG को खत लिखा था कि दिल्ली में कानून व्यवस्था ठीक नहीं है. जिसका जवाब देते हुए एलजी ने ये खत लिखा.
उन्होंने लिखा कि मुझे उम्मीद है कि मुख्यमंत्री जागरुकता बढ़ाने में पुलिस की सहायता करेंगे. और दो दिनों के भीतर ही उनकी गाड़ी ढूंढने के लिए उनकी तारीफ करेंगे.
बता दें कि बीते सप्ताह दिल्ली सचिवालय से केजरीवाल की बहुचर्चित नीली वैगनआर चोरी हो गई थी. जिसे 3 दिन बाद गाजियाबाद के मोहननगर से बरामद किया गया था.

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :

Tuesday, 17 October 2017

रेड जोन में पहुंचा प्रदूषण का स्तर , डीजल जनरेटर पर लगा बैन , बदरपुर थर्मल प्लांट बंद


दिल्ली में प्रदूषण
पर लगाम लगाने के लिए पटाखों पर रोक के बाद डीजल चालित जेनरेटर पर भी मंगलवार से प्रतिबंध लगा दिया गया। सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर कार्य कर रही एनवायरमेंट पॉल्यूशन कंट्रोल अथॉरिटी (ईपीसीए) ने ये आदेश जारी किया है। ईपीसीए के चेयरमैन भूरेलाल ने इन कदमों का ऐलान करते हुए कहा कि जेनरेटर्स पर प्रतिबंध सिर्फ दिल्ली में रहेगा, इसके बाहर लागू नहीं होगा। हालांकि राजधानी में भी अति आवश्यक सेवाओं के लिए इनका इस्तेमाल किया जा सकेगा।





इन आवश्यक सेवाओं की सूची भी जल्द जारी की जाएगी। ईपीसीए की सदस्य सुनीता नारायण ने कहा कि दिल्ली में प्रदूषण के खिलाफ जंग को बड़ी करते हुए दिल्ली के बदरपुर स्थित कोयला बिजली घर को भी अस्थायी रूप से बंद करने का आदेश दिया है, जबकि इसे अगले साल से स्थायी रूप से बंद कर दिया जाएगा। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने पिछले दिनों दिल्ली में प्रदूषण कम करने के लिए दीपावली पर पटाखों की बिक्री पर रोक लगा दी थी।

शादी-ब्याह में नहीं चलेगा

ईपीसीए ने अपने आदेश में कहा कि दिल्ली में होने वाले विवाह और अन्य समारोहों में भी डीजल जेनरेटर का इस्तेमाल नहीं होगा। सिर्फ अस्पताल जैसी आवश्यक सेवाओं में ही इसके इस्तेमाल की अनुमति होगी।

यूपी, हरियाणा को निर्देश

आदेश में यूपी, हरियाणा को कहा गया है कि वे अपने विद्युत संयंत्रों के प्रदूषण की निगरानी करें। दिल्ली में 10 साल से ज्यादा पुराने ट्रकों पर रोक और पेनल्टी के अलावा एयर क्वालिटी मॉनीटरिंग केंद्रों की संख्या बढ़ाने और उनकी आपस में नेटवर्किंग विकसित करने पर भी ध्यान दिया जाएगा।





राहत के आसार नहीं

ईपीसीए ने कहा कि दिल्ली, एनसीआर में इस बार हालांकि दीपावली पर पटाखों की बिक्री नहीं हो रही है। बावजूद इसके त्योहार के अगले दिन स्वच्छ हवा मिलने की उम्मीद कम ही है। बिक्री प्रतिबंधित होने के बावजूद लोग पटाखे जलाना बंद नहीं करेंगे। साथ ही वाहनों और दूसरी गतिविधियों के कारण प्रदूषण का स्तर बढ़ने की भी आशंका है। मौसम विभाग ने भी 20 अक्तूबर को हवा में नमी बढ़ने का पूर्वानुमान जताया है, जिससे पीएम-2.5 और पीएम 10 के कण हवा में फंस जाएंगे और प्रदूषण की परत बन सकती है।

गुणवत्ता और खराब होगी

ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान के तहत दिल्ली में हवा की गुणवत्ता के हिसाब से आवश्यक कदम उठने की योजना मंगलवार से लागू की गई है। अभी दिल्ली में हवा की गुणवत्ता कमजोर (पुअर) श्रेणी में है, जो ज्यादा कमजोर (वेरी पुअर) श्रेणी में जा सकती है। इससे भी ज्यादा स्थिति बिगड़ी तो गंभीर (सीवियर) स्थिति बन सकती है, जिसमें एक्शन प्लान के तहत जरूरी कदम उठाने पड़ेंगे।

पार्किंग फीस में इजाफा संभव
यदि हवा की गुणवत्ता ज्यादा कमजोर श्रेणी में जाती है तो दिल्ली के आसपास के इलाकों में भी डीजल जेनरेटर बंद किए जाएंगे। प्रदूषण पर लगाम के लिए पार्किंग फीस में तीन से चार गुना तक बढ़ोतरी की जा सकती है। बसों एवं मेट्रो की फ्रीक्वेंसी बढ़ाई जाएगी। होटलों और खुले में कोयला जलाने पर रोक लगा दी जाएगी। रात्रि सुरक्षा गार्डों को भी अलाव की जगह हीटर जलाने के लिए कहा जाएगा।

आपात स्थिति की चुनौती

हवा की गुणवत्ता सीवियर होने पर ईटों के निर्माण पर रोक, हॉट मिक्स प्लांट, स्टोन क्रेशर पर रोक, एनसीआर में कोयला बिजली संयंत्रों के उत्पादन को कम करने, सड़कों की मशीन से सफाई और पानी के छिड़काव आदि के कदम उठाए जाएंगे। जबकि इसके आपात स्थिति (सीवियर+) में पहुंचने पर तत्काल कई कदम उठाए जाएंगे। इसके तहत दिल्ली में ट्रकों के घुसने पर रोक (जरूरी सेवाओं को छोड़कर), निर्माण पर रोक, निजी वाहनों के लिए ऑड एंड इवन नियम लागू करना शामिल है।

एयर क्वालिटी इंडेक्श और श्रेणियां (क्यूबिक मीटर में)

श्रेणी पीएम 2.5 पीएम 10
पुअर 91-120 251-350
वेरी पुअर 121-250 351-430
सीवियर 250-300 430+500
सीवियर+ 300+ 500+

ताजमहल ऐतिहासिक स्थल है ये 'पूजा' का सिंबल नहीं हो सकता : रिजवी (शिया वक्फ बोर्ड चेयरमैन)


ताजमहल
पर बीजेपी नेता और विधायक संगीत सोम के बयान के बाद मचे बवाल मचा है। अब उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन इसमें भी कूद पड़े हैं। चैयरमैन सईद वसीम रिजवी ने मंगलवार को कहा कि यह ऐतिहासिक स्थल 'पूजा' का सिंबल नहीं हो सकता है। उन्होंने आरोप लगाया कि ज्यादातर मुगल 'अय्याश' थे।





रिजवी ने कहा, 'ताजमहल प्यार की निशानी हो सकती है, लेकिन पूजा की नहीं। एक-दो मुगलों को छोड़ दें तो ज्यादातर मुगल अय्याश थे। मुसलमान उन्हें अपना आइडल नहीं मानते हैं।' यूपी सरकार द्वारा अयोध्या में भगवान राम की 100 मीटर ऊंची प्रतिमा बनाने के प्रस्ताव की हो रही आलोचना पर कहा, 'मैं समझ नहीं पा रहा हूं कि यह मुद्दा ही क्यों है। जब मायावती ने अपनी खुद की प्रतिमा बनवाई तो किसी ने विरोध नहीं किया। तो फिर राम की प्रतिमा बनाने के प्रस्ताव पर विरोध क्यों हो रहा है?' उन्होंने कहा कि राम की प्रतिमा का निर्माण एक अच्छा कदम होगा, क्योंकि अयोध्या हिंदुओं की आस्था का केंद्र है।





बता दें कि कि सोमवार को बीजेपी नेता संगीत सोम ने कहा था कि गद्दारों के बनाए ताजमहल को इतिहास में जगह नहीं मिलनी चाहिए। उन्होंने कहा, 'ऐतिहासिक स्थलों में से ताज महल का नाम हटाने से कई लोगों को दुख हुआ। किस तरह का इतिहास? इतिहास में क्या है इसकी जगह? किसका इतिहास? ऐसे व्यक्ति का इतिहास जो हिंदुओं का उत्तर प्रदेश और पूरे भारत से सफाया करना चाहता था।'

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :

Monday, 16 October 2017

आतंकवादी मॉड्यूल का भंडाफोड़ , कुलगाम से 3 आतंकी गिरफ्तार






सुरक्षा बलों ने जम्मू कश्मीर के कुलगाम जिले में तीन आतंकियों की गिरफ्तारी के साथ ही एक आतंकवादी मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया है।

कश्मीर के पुलिस महानिरीक्षक मुनीर खान ने आज बताया कि लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) के दो और हिज्बुल मुजाहिद्दीन के एक आतंकवादी सहित तीन आतंकियों को पिछले तीन दिनों में दक्षिण कश्मीर से गिरफ्तार किया गया है। खान ने मीडिया को बताया कि 14 अक्टूबर को काजीकुंड इलाके के कुंड में सुरक्षा पाने वाले एक व्यक्ति के निजी सुरक्षा कर्मियों से हथियार छीनने के इरादे से दो आतंकवादियों ने गोलियां चलाईं। हालांकि स्थानीय लोगों के हंगामे के कारण उन्हें पीछे हटना पड़ा।

उन्होंने बताया कि यह सूचना मिलने के बाद पुलिस, सेना और सीआरपीएफ की एक संयुक्त टीम ने एक चेक प्वाइंट बनाया और मोटरसाइकिल पर जा रहे दो आतंकवादियों को धर दबोचा। इनकी पहचान खुर्शीद अहमद डार और हाजिक राथेर के रूप में की गई है। उनके कब्जे से एक पिस्तौल, कुछ गोला-बारूद और एक कारतूस बरामद किया गया। वे लश्कर से जुड़े हैं।खान ने बताया कि कुलगाम में एक मेडिकल एजेंसी में काम करने वाले आतंकवादी रमीज याटू को भी गिरफ्तार किया गया।





आईजीपी ने बताया कि उसके घर से हथियार और गोला-बारूद बरामद किए गए हैं। उसने शनिवार को दमहल हांजीपुरा में पुलिस वाहन पर आतंकवादी हमला करने में मदद की थी जिसमें एक पुलिसकर्मी की मौत हो गई थी। उन्होंने बताया कि यह हमला हिज्बुल मुजाहिद्दीन ने किया था। खान ने बताया कि स्थानीय आतंकवादियों के लिए आत्मसमर्पण करने का प्रस्ताव अब भी खुला है। उन्होंने बताया कि उन्हें अपने हथियार डाल देने चाहिए और हम उनके पुनर्वास में हर संभव मदद मुहैया कराएंगे।

रोहिंग्या शरणार्थियों को ले जा रही नाव डूबने से 12 की मौत , दर्जनों लापता


म्यामांर के रखाइन प्रांत से रोहिंग्या शरणार्थियों को बांग्लादेश लेकर जा रही एक नौका दोनों देशों को अलग करने वाली नदी में डूब गई। हादसे में कम से कम पांच लोगों की मौत हो गई और दर्जनों लापता हैं। बचकर भाग रहे रोहिंग्या समुदाय के लोग अकसर ऐसी त्रासदियों का शिकार होते हैं।






रखाइन प्रांत में रोहिंग्या मुसलमानों के खिलाफ हो रही हिंसा को संयुक्त राष्ट्र ने म्यामां अधिकारियों द्वारा ‘जातिय सफाया’ बताया है। अगस्त महीने में मुस्लिम उग्रवादियों के हमले के बाद म्यामां की सेना द्वारा ‘छानबीन अभियान’ के बाद रोहिंग्या समुदाय का प्रवास शुरू हुआ था। इस अवधि में अभी तक करीब एक दर्जन नौकाएं डूबने से लगभग 200 लोगों की मौत हुई है।

बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश के एरिया कमांडर लेफ्टिनेंट कर्नल एस. एम. आरिफ-उल-इस्लाम ने ‘एएफपी’ को बताया कि जब नौका आज सुबह नफ नदी में डूबी तब उसमें करीब 50 लोग सवार थे। चार बच्चों सहित पांच लोगों के शव मिले हैं। 21 व्यक्ति सुरक्षित बचे हैं।





इस्लाम ने कहा कि यह मछली पकड़ने वाली छोटी नौका थी। यह क्षमता से अधिक भरे होने के कारण डूब गई। शरणार्थी अक्सर शाह पोरिर द्वीप के लिए अत्याधिक शुल्क वसूलने का आरोप लगाते हैं। शाह पोरिर द्वीप म्यामां की सीमा के पार बांग्लादेश का एक तटीय गांव है। उन्होंने कहा कि तट रक्षक और सीमा गार्ड नफ नदी में बचाव एवं राहत अभियान चला रहे हैं। इससे करीब एक सप्ताह पहले नफ नदी के मुहाने पर रोहिंग्या समुदाय के सदस्यों से भरी एक अन्य नौका डूब गई थी। नदी का यह मुहाना म्यामां से भाग रहे मुस्लिम शरणाॢथयों के लिए कब्रिस्तान बन गया है।

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :

केंद्र बंगाल को अस्थिर बनाने की साजिश रच रहा : ममता बनर्जी


कोलकाता।
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह से आग्रह किया कि दार्जिलिंग की पहाड़ियों से सुरक्षा बलों को नहीं हटाया जाए। इसके साथ ही उन्होंने केंद्र पर राज्य को ‘‘अस्थिर’’ करने का आरोप लगाया। ममता ने कहा कि उन्होंने केंद्रीय बलों की वापसी पर मोदी और सिंह को पत्र भेजे हैं।





उन्होंने कहा, ‘‘मैंने प्रधानमंत्री और गृह मंत्री को पत्र लिखा है तथा उनसे पहाड़ियों से बलों को वापस नहीं बुलाने का आग्रह किया।’’ वह दार्जिलिंग पर एक सर्वदलीय बैठक के बाद संवाददाताओं को संबोधित कर रही थीं। ममता ने बलों को वापस बुलाए जाने के फैसले को एकतरफा और दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए आरोप लगाया, ‘‘केंद्र सरकार भाजपा पार्टी कार्यालय से चलायी जा रही है।

यह वास्तव में दुर्भाग्यपूर्ण है कि केंद्र सरकार ने पहाड़ियों से बलों को वापस बुलाने का काफी खराब और एकतरफा फैसला किया।’’ उन्होंने केंद्र तथा भाजपा पर साजिश रचने का आरोप लगाया। उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘वे लोग बंगाल को अस्थिर करने के लिए साजिश कर रहे हैं ताकि हिंसा होती रहे।’’ ममता ने कहा कि केंद्र ने कहा है कि वह 15 में से 10 कंपनियां वापस ले लेगा। उन्होंने कहा, ‘‘केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने मुझसे कहा कि सात कंपनियां वापस ली जाएंगी।





मैं पूछना चाहती हूं कि बंगाल के लोगों के साथ यह सौतेला व्यवहार क्यों है जबकि अन्य राज्यों में बड़ी संख्या में केंद्रीय बल तैनात हैं।’’ उन्होंने दार्जिलिंग से भाजपा सांसद एस एस अहलूवालिया पर जीजेएम प्रमुख बिमल गुरूंग को क्षेत्र में गड़बड़ी करने में मदद देने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि भाजपा ‘‘एक सीट के लिए पहाड़ी को जलने’’ की अनुमति दे रही है।

हालाँकि केंद्र को खबर मिलते हीं केंद्रिय सुरक्षा बलों को हटाने का फैसला टाल दिया है . इसके लिए ममता बनर्जी केंद्र से बात भी कर के मामले को सुलझा सकतीं थी , लेकिन उन्हें तो गन्दी राजनीति करने की आदत पर चुकी है तो भला कैसे मानती , खैर पब्लिक सब समझती है !

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :

Sunday, 15 October 2017

भारत में "गजवा ए हिन्द" के लिए जिहादी जंग का एलान , भारत के अन्दर रोहिंग्याओं का साथ , ख़ुफ़िया भिभाग सतर्क ....


अफगानी खुफिया एजेंसियों
से मिले इनपुट ने भारतीय खुफिया और सुरक्षा एजेंसियों की नींद हराम कर दी है। अफगानी खुफिया एजेंसियों ने बताया है कि पाकिस्तानी तालिबान (तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान) और अल्कायदा ने हाथ मिला लिया है। ये लोग भारत में अल्पसंख्यक युवाओं की भर्ती करने जिहाद छेड़ने की तैयारी कर चुके हैं। इन्होंने ने कश्मीर में अपना अड्डा बना लिया है। इस गिरोह ने कश्मीर के हरि पर्बत फोर्ट पर अपना बैनर भी लगा दिया। आतंकियों का यह गिरोह अलकायदा के साथ मिल कर काम कर रहा है।





* गज़्बा-ए-हिंद का आतंकियों ने किया ऐलान
* कश्मीर में आतंकी गिरोहों ने बनाया अड्डा
* यूपी, बिहार और दिल्ली में कर रहे हैं भर्तीइन आतंकी गिरोहों ने भारत में जिहाद की आखिरी जंग का नारा भी दिया है। जिसे वो गज़्वा-ए-हिंद बोलते हैं। सबसे खतरनाक बात तो यह है कि अलकायदा ने अपने वेब पोर्टल अज़ान पर भारत विरोधी मंसूबों को अपलोड भी कर दिया है। इसके अलावा कश्मीर, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, बिहार गुजरात और दक्षिण भारत के अल्पसंख्यक युवाओं गज़्वा-ए-हिंद से जुड़ने की अपील भी जारी कर दी है। इन आतंकवादियों के हौसले बुलंद हैं , इसके कई कारण हैं , इनके समर्थन से करोड़ों बंगलादेशी मुस्लिम्स यहाँ आकर अपना अड्डा जमा चुका है , जो इस आतंकी संगठन के एक इशारे पर मरने-मारने को उतारू हो जाने के लिए दिन-रात तैयार बैठा है . और अब इसी आतंकी संगठन की सहायता से लाखों रोहिंग्या मुस्लिम भारत में घुस चुके हैं जिसमें हजारों की संख्याँ में तो अपना आधार कार्ड भी बनवा चूका है .


स्थिति दिन-प्रतिदिन बगरती जा रही है , और हमारी खुफिया एजेंसी की रिपोर्ट को मुस्लिम समुदाय के लोग और भारत की संबिधान मानने को राजी नहीं है , तभी तो इन सभी बंग्लादेसियों और रोहिंग्याओं के पक्ष में खड़ी नजर आते हैं ये लोग .






अब तो सबसे बड़ा सवाल ये उठता है की अगर इस तरह की घटना घटी है तो क्या इसके जिम्मेदार ये मुस्लिम कौम के लोग जो ऐसे जेहादियों और आतंकवादियों के लिए आँख मूंदे खड़ी रहते हैं , इन्हें जिम्मेवार मान कर सरेआम खड़े कर गोली मारनी चाहिए ?


ऐसे जज जिसे ऐसे आतंकवादियों में मानवता दीखता है उन महानुभावों के साथ क्या करना चाहिए , जो देश की सुरक्षा के साथ दिन-दहारे खिलवार करते हैं , जिससे आम जनता में न्याय-व्यवस्था पर से विश्वास उठता जा रहा है ?

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :

BIHAR- सिपाही भर्ती परीक्षा में साइंस व अर्थशास्त्र ने किया परेशान, पकड़े गये 63 मुन्‍ना भाई


बिहार में सिपाही भर्ती की लिखित परीक्षा के पेपर लीक की बात कही जा रही है। इस सिलसिले में 14 संदिग्‍धों से पूछताछ की जा रही है। फिलहाल पुलिस ने पेपर लीक की पुष्टि नहीं की है।
पटना - केंद्रीय चयन पर्षद (सिपाही भर्ती) की ओर से रविवार को सिपाही भर्ती के लिए लिखित परीक्षा आयोजित हुई। इसमें राजधानी में 15 परीक्षा केंद्र सहित राज्य भर में 1300 परीक्षा केंद्र बनाए गए थे। पहली पाली की परीक्षा सुबह 10 बजे से 12 बजे तक, जबकि दूसरी पाली की परीक्षा दोपहर दो बजे से शाम चार बजे तक आयोजित की गई। परीक्षा के दौरान कुल 63 मुन्‍नाभाई पकड़े गये।पहले चरण के लिए आयोजित हुई परीक्षा में राज्य भर से सात लाख से अधिक परीक्षार्थियों ने परीक्षा दी। राजधानी के पटना मुस्लिम हाई स्कूल, पीएन एंग्लो हाई स्कूल, आर्य कन्या हाई स्कूल सहित सभी केंद्रों पर छात्र सुबह से ही पहुंच गए थे।



 






पूरी जांच के बाद छात्रों को परीक्षा केंद्र में प्रवेश मिला। राज्य के अपर पुलिस महानिदेशक (मुख्यालय) संजीव कुमार सिंघल ने बताया कि दोनों पालियों की परीक्षा शांतिपूर्ण संपन्न हो गई। लिखित परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले अभ्यर्थी शारीरिक जांच परीक्षा में शामिल हो सकेंगे।

100 अंकों की वस्तुनिष्ठ प्रश्नों का देना था जवाब


सिपाही भर्ती के लिए आयोजित परीक्षा में छात्रों को 100 अंकों के वस्तुनिष्ठ प्रश्नों का जवाब देना था। नौबतपुर के राहुल कुमार, बिहटा के रंजीत आदि ने बताया कि साइंस के न्यूमेरिकल व गहराई से प्रश्न पूछे गए थे। अर्थशास्त्र के प्रश्नों ने भी छात्रों को खूब चकराया। प्रतियोगी परीक्षा विशेषज्ञ डॉ. एम रहमान ने बताया कि परीक्षा में 50 फीसद अंक लाने पर छात्रों को शारीरिक परीक्षा के लिए बुलावा आएगा। 

पकड़े गये 63 मुन्‍नाभाई


राज्य के 716 केंद्रों पर रविवार को दो पाली में सिपाही भर्ती परीक्षा ली गई। कुल 7.93 लाख अभ्यर्थी परीक्षा में शामिल हुए। इस दौरान दूसरे के बदले परीक्षा देने आए 63 युवकों को पकड़ा गया। विभिन्न थानों में उनके खिलाफ धोखाधड़ी की प्राथमिकी दर्ज की गई। इनमें छह पटना जिला के बिहटा में, कैमूर में सात और छह मुन्ना भाई नालंदा में पकड़े गए।









रोहतास में एक मुन्ना भाई 10 नकलची और नवादा में तीन मुन्ना भाई और 4 नकलची पकड़े गए। आरा में चार नकलची को पकड़कर परीक्षा से बाहर निकाल दिया गया। पूर्व बिहार, कोसी व सीमांचल में सिपाही भर्ती परीक्षा में कुल 20 फर्जी परीक्षार्थी पकड़े गए।

परीक्षा देकर लौटने वाले परीक्षार्थियों ने रविवार को मुजफ्फरपुर जंक्शन पर जमकर उत्पात मचाया। प्लेटफॉर्म संख्या छह से खुलने वाली नरकटियागंज पैसेंजर ट्रेन में पहले से सवार यात्रियों को जबरन उतार दिया। विरोध करने वालों के साथ धक्का-मुक्की की। सीट नहीं मिलने से आक्रोशित होकर ट्रेन पर पथराव करने लगे।

पत्थरबाजी के चलते अफरातफरी मच गई। कुछ यात्री चोटिल भी हुए। गेट पर खड़े यात्री तो कूदकर भागने लगे। इस बीच प्लेटफॉर्म संख्या तीन पर मोतिहारी रूट से जाने वाली पोरबंदर एक्सप्रेस आकर खड़ी हुई। इस ट्रेन को देखकर परीक्षार्थियों का हुजूम उधर दौड़ा। उसमें जा घुसे। सीट पर बैठने के लिए फिर आपाधापी होने लगी।

जानकारी के अनुसार, नरकटियागंज जाने वाली उस ट्रेन के खुलने का समय 1 बजकर 5 मिनट निर्धारित था। लेकिन, 50 मिनट विलंब होने से उनका गुस्सा और भी बढ़ गया। ट्रेन शीघ्र खोलने के लिए गार्ड केबिन के पास पहुंचकर हंगामा करने लगे। हाथ जोड़े गार्ड ने विनती की तो वहां से हटकर ट्रेन के इंजन पर चढऩे लगे। लोको पायलट ने सूझबूझ से काम लेकर उन्हें उतारा।

ट्रेन छूटने के बाद अमित कुमार, सरोज कुमार ने कहा कि परीक्षार्थियों ने उन्हें उनकी सीटों से जबरन उठा दिया। विरोध करने पर पिटाई भी की। स्टेशन अधीक्षक बीएन झा ने बताया कि गार्ड ने वाकी टाकी से हमें सूचना दी। सूचना मिलने पर कुछ कार्रवाई की जाती तब तक ट्रेन खुल गई।

सरकार चलाने के लिए चाहिए हिम्मत और साहस, जो पीएम मोदी में है : नीतीश कुमार





पटना : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज पीएम मोदी के तीन वर्षों के कार्यकाल पर लिखी पुस्‍तक 'सवा अरब भारतीयों का सपना' विमोचन करते हुए कहा कि जो फ्रंट से लीड करता है, वही सफल होता है. नीतीश कुमार ने कहा कि मोदी जी फ्रंट से लीड करते हैं और मैंने कई प्रधानमंत्री देखे जो फ्रंट से लीड नहीं कर पाये. उन्होंने कहा कि सरकार चलाने के लिए हिम्‍मत चाहिए, जो पीएम मोदी में है.












मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि नोटबंदी जैसे साहसी कदम का हमने समर्थन किया. इसके साथ ही हमने बेनामी संपत्ति पर कार्रवाई की भी मांग की. उन्होंने कहा टाइम पास करने और नौकरी के लिए जनता चुनाव में विजयी बनाकर नहीं भेजती है. जनता सरकार चलाने के लिए चुनती है. इसके लिए हिम्मत और साहस चाहिए, जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी में है.

सीएम नीतीश ने राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद को जवाब देते हुए कहा कि विकास के लिए हम तो बोलेंगे ही. हमें ये चाहिए, हमें वो चाहिए. मेरा मकसद हर हाल में विकास है और हम इस मिशन को नहीं छोड़ेंगे. मालूम हो कि केंद्रीय विश्वविद्यालय के मसले पर नीतीश कुमार की मांग को पीएम मोदी की ओर से खारिज किया जाने पर लालू प्रसाद ने चुटकी ली थी.









मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि पटना म्यूजियम को बनाने में आयी कठिनाइयों का जिक्र भी म्यूजियम में होगा. नीतीश ने कहा कि कोर्ट की ओर से म्यूजियम के बनाने पर सवाल पूछे जाने का भी जिक्र किया जायेगा. म्यूजियम ऐसा बना कि पीएम मोदी ने भी देखने की इच्छा जतायी. नीतीश कुमार ने सुशील मोदी से कहा कि लोगों की उम्मीद सरकार से बढ़ रही है. इसलिए ध्यान रखना होगा. मुझे उम्मीद है केंद्र हर संभव मदद करेगा. उन्होंने कहा कि बिहार की सेवा ही देश की सेवा है.

वहीं, बिहार के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने इस अवसर पर कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम जीएसटी लागू कर पाने की हिम्मत नहीं दिखा पाये, लेकिन नरेंद्र मोदी ने हिम्मत दिखाई और जीएसटी को लागू किया. नरेंद्र मोदी और नीतीश कुमार के काम करने में कोई अंतर नहीं है. जब मैं नीतीश कुमार को काम करते देखता हूं तो मुझे नरेंद्र मोदी के काम करने का तरीका नजर आता है.

उधर, भाजपा के राष्ट्रीय मंत्री अनिल जैन ने कहा, नौकरी को लेकर सरकार का लोग मजाक उड़ाते थे, लेकिन सवा सौ करोड़ लोगों को रोजगार कोई नहीं दे सकता. तीन सालों में मोदी सरकार ने लगभग साढ़े 7 करोड़ लोगों के लिए रोजगार पैदा की है. बीते सरकार में 15 दिनों में एक घोटाला होता था और इस सरकार में 15 दिनों में एक स्कीम लांच होती है.

 

चीन ने लटकायी भारत की हाई स्पीड ट्रेन परियोजना, डोकलाम विवाद हो सकता है कारण

नयी दिल्ली : दक्षिण भारत में एक महत्वाकांक्षी उच्च गति ट्रेन परियोजना चीनी रेलवे की ओर से प्रतिक्रिया नहीं आने की वजह से अटकी पड़ी है. रेलवे अधिकारियों का कहना है कि प्रतिक्रिया में कमी का कारण डोकलाम विवाद हो सकता है. रेलवे की नौ उच्च गति परियोजनाओं की स्थिति पर मोबिलिटी निदेशालय की एक आंतरिक जानकारी मिली है. इससे पता चलता है कि 492 किलोमीटर लंबा चेन्नई-बेंगलुरु-मैसूर गलियारा अधर में लटका है, क्योंकि चीनी रेलवे ने मंत्रालय की ओर से भेजी गयी शासकीय सूचना पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है.










मोबिलिटी निदेशालय द्वारा तैयार किये गये नोट में कहा गया है, चीनी कंपनी ने नवंबर 2016 में अंतिम रपट सौंपी थी और उसके बाद चीन की एक टीम ने आमने-सामने बातचीत का सुझाव दिया था. बातचीत के लिए तारीख निश्चित नहीं गयी थी. नोट में परियोजना में विलंब का कारण चीनी रेलवे की ओर से प्रतिक्रिया की कमी को बताया गया है. सूचना में यह भी कहा गया है कि चीन रेलवे एरीयुआन इंजीनियरिंग ग्रुप कंपनी लिमिटेड (सीआरईईसी) ने व्यवहार्यता अध्ययन की रपट नवंबर 2016 में रेलवे बोर्ड को सौंप दी थी और बैठक की मांग की थी.











हालांकि, अधिकारियों का कहना है कि बोर्ड सीआरईईसी के संपर्क में नहीं है. पिछले छह महीने में उन्हें कई मेल संदेश भेजकर संपर्क करने की कोशिश की गयी थी. एक अधिकारी ने बताया कि हमने उनसे दूतावास के जरिये भी संपर्क करने की कोशिश की, लेकिन उनसे संपर्क नहीं हो सका है. अधिकारियों का कहना है कि ऐसा लगता है कि भूटान के डोकलाम में दोनों देशों के बीच हुए गतिरोध के कारण परियोजना पटरी से उतर गयी है.

रेलवे की ओर से बताया गया है कि इस एक परियोजना को छोड़कर बाकी सभी आठ हाई स्पीड कॉरिडोर का काम तेजी से चल रहा है. चीन ने मुंबई-अहमदाबाद हाई स्पीड नेटवर्क के लिए भी प्रयास किया था, पर जापान को यह काम मिला. मुंबई-दिल्ली सेक्टर में भी बुलेट प्रॉजेक्ट पर चीन रुचि ले रहा है. जल्द ही इसे भी अंतिम रूप दिया जाना है. चीन भारत के रेलवे इंजिनियर्स को प्रशिक्षित कर रहा है और उसकी मदद से भारत पहली रेलवे यूनिवर्सिटी शुरू करना चाहता है.

नोटबंदी और जीएसटी को बताया ऐतिहासिक- IMF CHIEF



नई दिल्ली - अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) की प्रमुख क्रिस्टीन लेगार्ड का कहना है कि भारतीय अर्थव्यवस्था मध्यम अवधि में एक मजबूत रास्ते पर आगे बढ़ रही है। दिलचस्प बात यह है कि आईएमएफ की ओर से यह बयान ऐसे समय में सामने आया है जब उसने चालू और अगले वर्ष के लिए भारत के विकास पूर्वानुमान को घटाया है। गौरतलब है कि आईएमएफ ने पिछले हफ्ते 2017 के लिए भारत के विकास दर के अनुमान को घटाकर 6.7 फीसदी  कर दिया था।







आईएमएफ की प्रबंध निदेशक क्रिस्टीन लेगार्ड ने बताया, “भारत के संदर्भ में हमने इसे थोड़ा डाउनग्रेड किया है, लेकिन हमारा विश्वास है कि भारत मध्यम और लंबी अवधि में ग्रोथ के रास्ते पर है जो पिछले कुछ वर्षों में भारत में किए गए संरचनात्मक सुधारों के परिणामस्वरूप और अधिक ठोस है।”भारत सरकार की ओर से किए गए हालिया प्रयासों नोटबंदी और जीएसटी को ऐतिहासिक प्रयास करार देते हुए उन्होंने कहा, "नोटबंदी और जीएसटी जैसे बड़े सुधार के कदमों के कारण कुछ समय तक आर्थिक सुस्ती की स्थिति बनना कोई ताज्जुब की बात नहीं है। अब हम भारत की बात करते हैं। हमने विकास दर का अनुमान कम किया है। लेकिन हमारा मानना है कि पिछले कुछ वर्षो में उठाए गए सुधार के कदमों के परिणामस्वरूप मध्यम और लंबी अवधि में भारतीय अर्थव्यवस्था कहीं ज्यादा मजबूत रास्ते पर बढ़ रही है। घाटा कम हुआ है और महंगाई भी नीचे बनी हुई है। इन संकेतों के साथ मिलकर इन नीतिगत सुधारों से भविष्य में वे नतीजे मिलेंगे, जिनकी उम्मीद भारत का युवा कर रहा है।"







लेगार्ड ने कहा, “हम उम्मीद करते हैं कि राजकोषीय संयोजन, क्योंकि घाटा कम हुआ है एवं मुद्रास्फीति काफी नीचे रही है और संरचनात्कम सुधार वास्तव में उन लोगों के लिए नौकरियों का सृजन करेंगे जो कि देश की युवा आबादी है और जिनके भारत का भविष्य बनने की उम्मीद है।”यूबीआइ की वकालत आईएमएफ ने इस बात का खंडन किया है कि वह भारत में सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) को हटाकर यूनिवर्सल बेसिक इनकम (यूबीआइ) लागू करने के पक्ष में है। मुद्राकोष की सालाना वित्तीय निगरानी रिपोर्ट के बाद इस तरह की खबरें आई थीं।आइएमएफ के वित्त विभाग के निदेशक विटोर गैस्पर ने कहा कि भारत को लेकर आई रिपोर्ट यूबीआइ के बारे में केवल केस स्टडी है। यह अध्ययन केवल इस उद्देश्य से किया गया कि कैसे बड़ी और अब अक्षम हो चुकी योजनाओं को बदला जा सकता है।


बीजेपी के खिलाफ बढ़ रहा असंतोष? तीन दिन के मंथन के बाद काट निकालने के लिए संघ ने बनाया नया प्लान



अगले लोकसभा चुनाव में डेढ़ साल और कई राज्यों के विधानसभा चुनाव में कुछ माह का वक्त रह गया है, मगर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के खिलाफ कई क्षेत्रों में असंतोष पनप रहा है। इससे भाजपा तो चिंतित है ही, उसके मातृ संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के माथे पर भी कम बल नहीं पड़े हैं। यही कारण है कि संघ ने भाजपा की जीत के लिए नए सिरे से रणनीति बनाकर जमावट शुरू करने की ठान ली है। संघ अब गांवों की ओर रुख करेगा। भोपाल के शारदा विहार आवासीय विद्यालय परिसर में तीन दिन चली अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक में देश की वर्तमान राजनीतिक, सामाजिक और आर्थिक मसलों पर चर्चा हुई। इस दौरान विभिन्न प्रतिनिधियों ने बताया कि किसान, नौजवान और कारोबारी से लेकर राज्यों के कर्मचारियों तक में आक्रोश पनप रहा है।











सूत्रों की मानें तो संघ ने बढ़ते असंतोष को जानते हुए नई रणनीति पर अभी से काम करने का मन बना लिया है। वह शहरी और नगरीय इलाकों की बजाय ग्रामीण और कस्बाई इलाकों पर ज्यादा जोर देगा। संघ गांवों में शाखाएं लगाएगा और अपने अनुषांगिक संगठनों को सक्रिय करेगा।



 






बैठक में तय किया गया है कि संघ की ज्यादा से ज्यादा शाखाओं में इजाफा ग्रामीण इलाकों में किया जाए। किसानों से सीधे संवाद कर उनकी समस्याओं के निदान के प्रयास हों, साथ ही उन्हें फसल का लाभकारी मूल्य मिले इस दिशा में भी प्रयास हों। इसके अलावा किसानों को जैविक खेती की ओर मोड़ा जाए, इसके फायदे बताए जाएं।

उत्तर कोरिया से बातचीत को तैयार : ट्रंप




वाशिंगटन : अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि उत्तर कोरिया के परमाणु हथियार कार्यक्रम पर उसके साथ बातचीत की संभावना को लेकर वह तैयार हैं। जानकारी के मुताबिक, ट्रंप ने व्हाइट हाउस में शुक्रवार को संवाददाताओं से कहा, "हम देख रहे हैं कि उत्तर कोरिया के साथ क्या हो सकता है। मैं यही कह सकता हूं। हम हर तरह से तैयार हैं।" उन्होंने कहा, "यदि हम बातचीत कर सकते हैं, तो मैं हमेशा से तैयार हूं। लेकिन बातचीत के अलावा कुछ और होगा, तो मेरा यकीन करें हम उसके लिए भी तैयार हैं, जितना कि हम कभी नहीं थे।" दो हफ्ते पहले, ट्रंप ने अपने विदेशमंत्री रेक्स टिलरसन की टिप्पणियों को नकार दिया था, जिसमें यह संकेत था कि अमेरिका उत्तर कोरिया के साथ सीधे तौर पर संपर्क और बातचीत के लिए तैयार है।



 






ट्रंप ने एक अक्टूबर को ट्वीट किया था, "मैंने अपने विदेशमंत्री रेक्स टिल्लरसन से कहा दिया कि रॉकेट मैन के साथ वार्ता की कोशिश कर वह अपना समय बर्बाद कर रहे हैं।" ट्रंप ने कहा, "रेक्स अपनी ऊर्जा बचाइए, जो करना है हम उसे करेंगे।" उस ट्वीट के एक दिन बाद व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव सारा सैंडर्स ने कहा था कि प्योंगयांग के साथ बातचीत सिर्फ वहां हिरासत में रखे गए अमेरिकियों को वापस लाने के लिए हुई है।" उन्होंने कहा कि कि इसके अलावा, उत्तर कोरिया के साथ कोई बातचीत नहीं होगी। ट्रंप ने प्योंगयांग को 19 सितंबर को संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने पदार्पण भाषण में चेतावनी दी थी कि यदि जरूरत हुई तो अमेरिका एशियाई देश को नष्ट कर देगा।



 








संयुक्त राष्ट्र में दिए भाषण में ट्रंप ने कहा था, "अमेरिका में बहुत ताकत और धैर्य है, लेकिन अगर खुद को या उसके सहयोगियों की रक्षा करने के लिए मजबूर किया गया, तो हमारे पास उत्तर कोरिया को पूरी तरह से नष्ट करने के अलावा कोई विकल्प नहीं होगा।" कुछ ही समय बाद, किम ने ट्रंप को मानसिक रूप से विक्षिप्त बताया और कहा कि उन्हें उत्तर कोरिया के खिलाफ धमकी देने का खामियाजा भुगतना होगा। एशियाई देश के विदेश मंत्री, री योंग-हो ने 22 सितंबर को न्यूयॉर्क में संवाददाताओं से कहा था कि उत्तर कोरिया प्रशांत महासागर में हाइड्रोजन बम का परीक्षण कर ट्रंप की धमकी का जवाब दे सकता है।

Friday, 13 October 2017

हजारों रोहिंग्या मुसलमान एक साथ नागालैंड पर हमला कर इस्लामिक राष्ट्र बनाने के फिराक में , हथियार इकट्ठा करने की पुख्ता रिपोर्ट






नागालैंड पुलिस के खुफिया विभाग
ने संघीय सरकार को सूचना दी है कि  रोहिंग्या मुस्लिम यहां के लोगों पर कभी भी हमला कर सकते हैं। नागालैंड खुफिया एजेंसियों के मुताबिक दीमापुर के स्थानीय रोहिंग्या विद्रोहियों के संपर्क में हैं। रोहिंग्याओं ने बांग्लादेश से बड़ी मात्रा में गोला और बारूद भी इकट्ठा कर लिया है। रोहिंग्या हेबरॉन और कहोई कैंपों पर हमले की योजना बना रहे हैं ताकि नगालैंड पर कब्जा करना आसान हो। ऐसी भी आशंका है कि  आईएसआई समर्थित 20 आतंकवादी नगालैंड में घुसपैठ कर चुके हैं जो रोहिंग्याओं को प्रशिक्षण दे रहे हैं।

खबर है कि इसके लिए बांग्लादेश से भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद एकत्र करने शुरू कर दिए हैं. खुफिया एजेंसी के अनुसार रोहिंग्या उग्रवादियों की वजह से राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरा है.
अधिकारियों के अनुसार , बाहर निकालने की कोशिश होने पर 2,000 मुसलमानों ने नागाओं के खिलाफ हथियार उठाने के लिए तैयार है. इमाम की नागालैंड के हेब्रोन और केहो कैंप के हमले पर हमला करने की योजना हैं, जिससे की उनके लिए नागालैंड पर कब्जा करना सुविधाजनक होगा.  रिपोर्ट के अनुसार आईएसआईएस से जुड़े करीब 20 आतंकवादी नगालैंड में उग्रवादियों को ट्रेनिंग देने के लिए घुसपैठ कर चुके हैं. रिपोर्ट के अनुसार नगालैंड में आत्मघाती धमाके और हमले भी कराए जा सकते हैं. रिपोर्ट के बाद दीमापुर में संदिग्ध मुसलमानों की गतिविधियों पर नजर रखने के निर्देश दिये गये हैं.

एजेंसी ने बीएसएफ के रिटायर्ड आईजी वीके गौड़ के अनुसार शरणार्थी कैम्पों में नए लोगों के आने पर रोक लगाने की जरूरत है. गौड़ के अनुसार ये माना जा रहा है कि रोहिंग्या शरणार्थी कैम्पों में पाकिस्तानी आतंकवादी संगठन जमात-उद-दावा, अल-कायदा, जमात-ए-इस्लामी, छात्र शिबिर, इस्लामिक स्टेट और दूसरे मुस्लिम आतंकवादी संगठनों के लोग घुसपैठ कर चुके हैं. इन कैम्पों में राहत सामग्री बांटने में कई मुस्लिम देश मदद कर रहे हैं और आतंकवादी इसका फायदा उठा रहे हैं. गौड़ ये दावा भी किया की भारतीय सुरक्षा बलों में भी ऐसे लोग हैं जिनकी सहानुभूति उग्रवादियों के साथ है. रिपोर्ट के अनुसार भारत और बांग्लादेश की 4096 किलोमीटर लम्बी अंतरराष्ट्रीय सीमा पर 140 ऐसी जगहों की पहचान की गयी है जहाँ से रोहिंग्या आतंकवादी घुसपैठ कर सकते हैं.

अगर ऐसा हुआ तो एक बार सोचिये एक राज्य पर लगभग 10,000 रोहिंग्या हमला कर कब्जा करने की कोशिश करेगा जैसे सीरिया और ईराक में हुआ , लाखों लोगों का नरसंघार होगा और माननीय कांग्रेसी सहित रोहिंग्या के ठेकेदार दिल्ली में बैठ कर केंद्र सरकार को कोसते नजर आयेंगे . और सुप्रीम कोर्ट के जज साहब अपने परिवार के साथ किसी और देश में जाकर यहाँ हो रहे नरसंघार को न्यूज में देख कर मजे लेंगे .


लेकिन एक-बात ध्यान रहे जिस दिन ऐसा हुआ एक-एक ऐसे सफेद पोशाक वालों को जिसनें भी इन हरामखोरों को शरण देने की बात किया है उसे नंगा कर पिछवाड़ा काटा जाएगा .







"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :

Thursday, 12 October 2017

17 नवंबर को रि‍लीज होगी सीएम केजरीवाल पर बनी डॉक्‍यूमेंट्री ड्रामा 'एन इन्सिगनिफिकेंट मैन' फिल्‍म ......


दिल्‍ली की मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल की जिंदगी पर बन रही ड्राक्‍यूमेंट्री ड्रामा 'एन इन्सिगनिफिकेंट मैन' 17 नवंबर को रिलीज हो रही है. फिल्‍म को अमेरिका की मीडिया कंपनी लॉन्‍च करेगी. यह एक अकाल्‍पनिक राजनीतिक फिल्‍म है जिसका निर्देशन खुशबू रांका और विनय शुक्‍ला ने किया है. फिल्‍म में सामाजिक कार्यकर्ता से राजनेता बने अरविंद केजरीवाल के भारतीय राजनीतिक क्षितिज पर उदय को दर्शाती है.






सीएम की जिंदगी पर आधारित इस फिल्म को 'मास्टरपीस' बताते हुए, वाइस ने घोषणा की है कि अब वह इस फिल्म को पूरे भारत और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर रिलीज करने के लिए निर्माता आनंद गांधी की मेमिसिस लैब के साथ साझेदारी करेंगे.

वाइस डॉक्यूमेंट्री फिल्म्स के कार्यकारी निर्माता, जेसन मोजिका ने कहा, 'मैंने 'एन इन्सिगनिफिकेंट मैन' टोरंटो अंतर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल 2016 में देखी थी और उसके मुझे ऐसा लगा कि यह फिल्म मार्शल करी की 'स्ट्रीट फाइट' के बाद जमीनी राजनीति पर बनी सबसे बेहतरीन डॉक्यूमेंट्री फिल्म है.'






इस फिल्‍म पर केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष पहलाज निहलानी को ऐतराज था. उन्होंने इस फिल्म को रिलीज करने के लिए फिल्म निर्माताओं से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित और अरविंद केजरीवाल से अनापत्ति प्रमाणपत्र (एनओसी) लाने को कहा था. अंत में, फिल्म प्रमाणन अपीलीय न्यायाधिकरण ने फिल्म को मंजूरी दे दी.


मोजिका ने कहा, 'हम पिछले कुछ महीनों में इस फिल्म को लेकर फिल्म निर्माताओं और सेंसर बोर्ड के बीच की लड़ाई पर करीब से नजर रखे हुए थे. वाइस हमेशा अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए लड़ रहे स्वतंत्र फिल्म निमार्ताओं को सहयोग करता रहेगा.


हालांकि सौदे की शर्तो का खुलासा नहीं किया गया है, लेकिन ऐसे कयास लगाय जा रहे हैं कि फिल्म 22 से ज्यादा देशों में दिखाई जायेगी. मेमिसिस लैब के आनंद गांधी ने कहा, 'भारतीय सिनेमा के इतिहास में पहली बार एक ऐसी फिल्म दिखाई जाएगी, जिसे देखकर लोग यह समझ पायेंगे कि राजनीतिक दलों में बंद दरवाजों के पीछे क्या होता है.'

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :

डायबिटीज के खतरे को कम करता हैं अखरोट और सोयाबीन का सेवन


टाइप-2 डायबिटीज से बचने के लिए ओमेगा-6 से भरपूर आहारों का सेवन करना चाहिए। एक शोध के मुताबिक अखरोट, मछली, सोयाबीन, सूरजमुखी का तेल आदि में ओमेगा-6 पॉलीसैचुरेटेड फैट पाया जाता है। जो टाइप-2 डायबिटीज को रोकने में मदद करता है। इस शोध से ओमेगा-6 के स्वास्थ्य के फायदों भी नजर में आए हैं।
इस शोध के नतीजे बताते हैं कि जिन लोगों में लिनोलिक एसिड का उच्च रक्त स्तर, ओमेगा-6 फैट पाया जाता है उनमे टाइप-2 डायबिटीज होने का खतरा 5 फीसदी कम होता है।





सिडनी के जार्ज इंस्टीट्यूट फऑर ग्लोबल हेल्थ के डॉ. जेसन वू ने कहा,' डाइट में साधारण सा बदलाव टाइप-2 के खतरे को बढ़ने से रोक सकता है, जो विश्व स्तर पर चिंताजनक बन चुका है।'
मैसाचुसेट्स में टफट्स यूनिवर्सिटी से दारीश मोझाफरीन ने कहा कि शोध में शामिल लोग सामान्य रूप से स्वस्थ थे, उन्हें किसी तरह के निर्देश नहीं दिए गए थे। उसके बाद भी जिन लोगों ने ओमेगा-6 से भरपूर आहारों का सेवन किया उनमें टाइप-2 डायबिटीज के खतरे का संभावना कम है।





टीम ने 10 देशों के 39,740 लोगों पर हुई 20 शोधों के डेटा का विश्लेषण किया है, जिसमें से 4,347 मामले नए हैं। शोध में शामिल प्रतिभागियों में 2 मुख्य ओमेगा 6 फैक्ट होते है- लिनोलिक एसिड औऱ एराकिडोनिक एसिड।
लिनोलेइक एसिड कम जोखिम से जुड़ा था, जबकि एराक्रिडोनिक एसिड के स्तर में मधुमेह के उच्च या निम्न जोखिम के साथ काफी महत्वपूर्ण नहीं थे। यह शोध लांसेट मधुमेह और एंडोक्रिनोलॉजी पत्रिका में छपी हुई हैं।


"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :

महिलाओं को निक्कड़ में देखने की चाहत और अपने राहुल बाबा महिला ट्वाईलेट में ......

महिलाओं को निक्कड़ में देखने की चाहत और अपने राहुल बाबा महिला ट्वाईलेट में !

गुजरात: 
कुछ दिनों पहले राहुल गाँधी RSS और बीजेपी पर हमला करते हुए कहे थे , आप जनता से पूछना चाहता हूँ की RSS के शाखा में निक्कर पहने कभी महिला को देखा है ? इस ब्यान पर अभी तक हल्ला मचा हुआ ही था की राहुल गाँधी नें विपक्षियों को एक और मौका दे दिए हमला करने का .





प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ग्रह राज्य गुजरात में विधानसभा चुनाव को लेकर काफी मशक्कत कर रहे हैं राहुल गांधी  सभाओं में जाकर इन दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर खूब हमला बोलते नजर आ रहे हैं राहुल गांधी। बुधवार के दिन छोटा उदैपुर सभा के दौरान राहुल गांधी के साथ एक अजीब घटना घटित हुई। यह घटना ऐसी थी भविष्य में राहुल गांधी इस घटना को याद करके खुद पर हसेंगे। कारण यह था कि राहुल गांधी को गुजराती भाषा नहीं आती है।





और राहुल गांधी छोटा उदयपुर में जनसभा कर रहे थे संवाद कार्यक्रम में राहुल गांधी युवाओं से वार्तालाप कर रहे थे इसी दौरान बाथरुम जाना पड़ा , गुजराती ना आने के कारण राहुल गांधी जेंट्स टॉयलेट की जगह लेडीज टॉयलेट में घुस गए, यह मामला हंसी का पात्र बन गया।

टॉयलेट में केवल एक पेपर पर गुजराती भाषा में लेडीज टॉयलेट और जेंट्स टॉयलेट लिखा था दरवाजे पर किसी प्रकार की कोई तस्वीर नहीं बनी थी ।

इसी के साथ बीजेपी राहुल गाँधी से सवाल पूछने शुरू कर दिए , आखिर महिलाओं को निक्कर में देखने की इतनी चाहत हुयी की लेडिज ट्वाईलेट तक घुस गए .

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :

शिवसेना नेता ने गाड़ी से 3 छात्राओं को कुचला , 2 की मौत 1 घायल


महाराष्ट्र के पुणे जिले में एक बहुत ही दर्दनाक हादसा हुआ है। इस हादसे में एक एसयूवी कार ने तीन छात्राओं को कुचल दिया जिसमें से दो छात्राओं की मौके पर ही मौत हो गई। ये गाड़ी शिवसेना के नेता की बताई जा रही है जो हादसा होते ही गाड़ी छोड़कर भाग गया।






मिली जानकारी के मुताबिक शिवसेना के बारामती शहर के प्रमुख पप्पू माने गाड़ी से जा रहे थे इस दौरान ये हादसा हुआ जिसमें घर से स्कूल जा रही 3 छात्राओं को नेता ने कुचल दिया जिसमे से समीक्षा विटकर 12 वर्षीय और विद्या पवार 13 वर्षीय की मौके पर ही मौत हो गई वे तीसरी छात्रा घायल हो गई।





हादसे होने के बाद गाड़ी नाले में जा गिरी और चालक गाड़ी छोड़कर मौके से फरार हो गया। वहां गुस्साएं लोगों ने गाड़ी में तोड़फोड़ की और बाद में उसमें आग लगा दी .

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :

महात्मा गांधी की हत्या से कांग्रेस को हुआ फायदा : उमा भारती


भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने आज दावा किया कि महात्मा गांधी की हत्या से कांग्रेस को ‘फायदा’ हुआ, क्योंकि उन्होंने स्वतंत्रता के बाद पार्टी को भंग करने की बात कही थी।






महात्मा गांधी की हत्या की फिर से जांच कराने के लिए उच्चतम न्यायालय में दायर की गई याचिका पर हाल में अदालत की टिप्पणी के बारे में पूछे गए एक सवाल के जवाब में उन्होंने यह बात कही। उमा ने पूछा, ‘गोडसे द्वारा गांधी जी की हत्या के बाद से ही यह मामला चल रहा है। आज मैं देश से आपके (मीडिया) माध्यम से पूछती हूं कि गांधी जी की हत्या से किसे फायदा मिला?’

उन्होंने कहा कि जहां संघ और जनसंघ को नुकसान हुआ और देश को क्षति हुई वहीं  ‘गांधी जी की हत्या से केवल कांग्रेस को फायदा मिला।’ पेयजल और स्वच्छता मंत्री ने दावा किया, ‘क्योंकि गांधी जी ने सुझाव दिए थे कि कांग्रेस को भंग कर दिया जाए (स्वतंत्रता के बाद)। वास्तव में वह घोषणा कर चुके थे कि कांग्रसे को भंग किया जाएगा।’ उत्तर गुजरात के बनासकांठा जिले में भाजपा की ‘गुजरात गौरव यात्रा’ के दौरान वह मीडिया से बात कर रही थीं।





महात्मा गांधी की 30 जनवरी 1948 को नयी दिल्ली में नजदीक से गोडसे ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। वह हिंदू राष्ट्रवाद का पक्षधर था। मुंबई के पंकज फडणीस ने उच्चतम न्यायालय में याचिका दायर कर कई आधार पर जांच फिर से कराए जाने की मांग की है और दावा किया है कि यह इतिहास के सबसे बड़े लीपापोती में शामिल है। फडणीस शोधकर्ता हैं और वह अभिनव भारत के न्यासी भी हैं।

उमा उन मंत्रियों में शामिल हैं जो भाजपा की यात्रा में हिस्सा ले रही हैं जिसका उद्देश्य विधानसभा चुनावों से पहले सत्तारूढ़ दल के समर्थन में लोगों को एकजुट करना है। यात्रा के दौरान उन्होंने देवदार, थरड, वाव और राधानपुर विधानसभा क्षेत्रों में आम सभा को संबोधित किया।

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :

उ कोरिया ने कहा-अमेरिका ने शुरू कर दी है जंग , भुगतना होगा उसे परिणाम , ट्रंप ने कहा-समस्या का हल जरूरी



उत्तर कोरिया के विदेश मंत्री ने अपने देश के परमाणु हथियारों को न्याय की तलवार करार दिया है. उन्होंने कहा कि उसके देश का परमाणु कार्यक्रम क्षेत्र में शांति और सुरक्षा की गारंटी लेता है और यह चर्चा का विषय नहीं होगा. रूस की सरकारी समाचार एजेंसी तास ने उत्तर कोरिया के विदेश मंत्री री योंग हो को यह कहते हुए उद्धृत किया है कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का सितंबर में संयुक्त राष्ट्र में दिया गया बयान युद्ध को उकसानेवाला था. ट्रंप ने संयुक्त राष्ट्र में अपने बयान में आगाह किया था कि अगर उनके देश और उसके सहयोगियों की रक्षा करने की आवश्यकता पड़ी तो अमेरिका उत्तर कोरिया को पूरी तरह तबाह कर देगा. उत्तर कोरिया के विदेश मंत्री का हवाला देते हुए रूसी एजेंसी ने कहा कि अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने उत्तर कोरिया के साथ जंग की शुरुआत कर दी है और इसके लिए उनके देश को दंड भुगतना होगा. दूसरी ओर, अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि यह ऐसी समस्या है जिसका हल किया जाना जरूरी है.





प्‍योंगयांग ने हाल में दो अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइलों (आईसीबीएम) का परीक्षण किया था. इसके बाद से दोनों देशों के बीच तनाव और अधिक बढ़ गया है. री ने तास को बताया कि उत्तर कोरिया के परमाणु हथियार प्रतिरोधक हैं जिससे उसकी अमेरिका से रक्षा हो सके. उन्होंने कहा कि उत्तर कोरिया के सामरिक बलों के पास अटूट शक्ति है, जो आक्रामक अमेरिका को दंडित किये बिना नहीं छोड़ेंगे. री ने कहा कि उत्तर कोरिया की सेना और उसके लोग लगातार अमेरिकियों को सबक सिखाये जाने की मांग कर रहे हैं. रि ने पहले ट्रंप को दुष्‍ट राष्‍ट्रपति कहा और उनके बयान से अमेरिकी राष्‍ट्रपति ट्रंप और उत्तर कोरियाई तानाशाह किम जोंग ऊन के बीच वाक्युद्ध शुरू हो गया. उन्‍होंने कहा, अब बातचीत से नहीं जंग से ही समाधान निकलेगा. हम किसी भी हाल में परमाणु हथियारों से जुड़े समझौतों के लिए बातचीत पर सहमत नहीं होंगे.

दूसरी ओर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि उत्तर कोरिया के हालिया मिसाइल और परमाणु परीक्षणों पर उनका नजरिया अलग है और यह समस्या ऐसी स्थिति में पहुंच गयी है जहां कुछ तो किया जाना चाहिए. उत्तर कोरिया ने इस वर्ष फरवरी से किये गये 15 परीक्षणों के दौरान 22 मिसाइल दागे जिसमें से दो जापान के ऊपर से होकर गुजरीं. उत्तर कोरिया के इस कदम पर अमेरिका और उसके सहयोगी देशों ने तीखी प्रतिक्रिया दी.





ट्रंप ने बुधवार को अपने ओवल कार्यालय में कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन त्रुदू के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा, मेरा मानना है कि मेरा अलग नजरिया है और अन्य लोगों के मुकाबले अलग तरीका है. मुझे लगता है कि अन्य लोगों के मुकाबले शायद मैं ज्यादा दृढ़ता और सख्ती से सोचता हूं, लेकिन मैं सुनता सबकी हूं. उन्होंने कहा, आखिरकार, मैं वही करंगा जो अमेरिका के लिए सही होगा और जो दुनिया के लिए सही होगा, क्योंकि यह सच में वैश्विक समस्या है. एक सवाल का जवाब देते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि यह ऐसी समस्या है जिसे हल किया जाना चाहिए. बाद में ट्रंप ने फॉक्स न्यूज से कहा कि दुनिया उत्तर कोरिया को लेकर एक ऐसी स्थिति पर पहुंच गई है जहां कुछ तो किया जाना चाहिए. उन्होंने कहा, यह समस्या कई साल पहले ही सुलझ जानी चाहिए थी. निश्चित तौर पर पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा को इस पर ध्यान देना चाहिए था. अब यह समस्या काफी बढ़ गयी है. कुछ तो किया जाना चाहिए. हम इसे ऐसा चलने नहीं दे सकते.


"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :

Wednesday, 11 October 2017

पाकिस्तान सरकार दे हाफिज सईद के खिलाफ सबूत नहीं तो खत्म होगी नजरबंदी : लाहौर हाई कोर्ट



नई दिल्ली: 
लाहौर हाई कोर्ट ने मंगलवार को मुंबई आतंकवादी हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद के खिलाफ पाकिस्तान सरकार को जल्द सबूत सौंपने को कहा। हाई कोर्ट ने कहा कि अगर पाकिस्तान सरकार मुंबई आतंकवादी हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद के खिलाफ सबूत दाखिल नहीं करती है तो उसकी नजरबंदी रद्द कर दी जाएगी।






आपको बता दे कि जमात उद-दावा का प्रमुख हाफिज सईद 31 जनवरी से ही नजरबंद है और लाहौर हाई कोर्ट में उसको नजरबंद रखने के खिलाफ एक याचिका दायर की गई थी। दायर याचिका पर आज सुनवाई थी पर सरकार की तरफ से गृह सचिव उसकी हिरासत से संबंधित मामले के पूरे रेकॉर्ड के साथ अदालत में पेश नहीं हुए।

सरकार की तरफ से कहा गया इस्लामाबाद में अपरिहार्य सरकारी जिम्मेदारी के चलते गृह सचिव पेश नहीं हो पाए।





जिस पर जस्टिस सैयद मजहर अली अकबर नकवी ने कहा, 'सरकार का बर्ताव दिखाता है कि याचिकाकर्ताओं के खिलाफ सरकार के पास कोई ठोस सबूत नहीं है। अदालत के सामने अगर कोई ठोस सबूत नहीं पेश किया गया तो याचिकाकर्ताओं की हिरासत रद्द कर दी जाएगी।'

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :

यहाँ होटल में नहीं ठहर सकता कोई मुसलमान , ठहराने पर भाड़ी जुर्माना ......





एक बार फिर पाकिस्तान के सबसे करीबी दोस्त चीन ने अपने देश में रहने वाले मुसलमानों पर बड़ी पाबंदी लगाई है। चीन ने शिनजियांग प्रांत के उइगर मुसलमानों के देशभर के किसी भी होटल में रहने पर रोक लगा दी है। वहीं इस नियम को तोड़ने पर दक्षिण चीन प्रशासन ने एक होटल पर जुर्माना भी लगाया है।





चीन में 18 अक्टूबर से कम्युनिस्ट पार्टी कांग्रेस शुरू हो रही है। शिनजियांग प्रांत में मुस्लिम बहुसंख्यक हैं और चीन सरकार आतंकवाद और कट्टरपंथ को बढ़ावा देने के लिए उइगर मुसलमानों को ही जिम्मेदार मानती है। इसी के मद्देनजर यह कार्रवाई की गई। रेडियो फ्री एशिया के अनुसार शेनजेन होटल ने इस बात की पुष्टि की है कि 7Days inn को शिनजियांग के आगंतुकों को अपने यहां ठहराने के लिए जुर्माना देना होगा।

कानून को तोड़ने के लिए होटल पर 15,000 युआन का जुर्माना लगा है। होटल के एक कर्मचारी ने कहा, 'डेटाबेस शेयर करके पुलिस को पूरी जानकारी दी जाएगी। पुलिस किसी भी गेस्ट को वीटो कर सकती है, जिससे उसे खतरा महसूस होगा।' फिलहाल इस बात की जानकारी नहीं है कि यह बैन डमेस्टिक या इंटरनेशनल होटल की चेन पर है या केवल स्थानीय होटलों पर। गौरतलब है कि अक्सर उइगर मुस्लिम समुदाय के लोग चीन सरकार द्वारा अपने खिलाफ भेदभाव का आरोप लगाकर प्रदर्शन करते रहते हैं।

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :

जय शाह प्रकरण को लेकर यशवंत सिंहा ने कहा, BJP ने खो दी अपनी नैतिकता

जय शाह प्रकरण को लेकर यशवंत सिंहा ने कहा, BJP ने खो दी अपनी नैतिकता : ABT News

भाजपा के वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा ने पार्टी प्रमुख अमित शाह के बेटे का बचाव करने के लिए आज अपनी पार्टी की आलोचना करते हुए कहा कि ऐसा लगता है कि इसने इतने वर्षों में अर्जित अपने उच्च नैतिक आधार को खो दिया। मोदी सरकार की वित्तीय नीतियों के कट्टर आलोचक पूर्व वित्त मंत्री ने ‘द वायर’ के खिलाफ सौ करोड़ रुपये की मानहानि याचिका पर भी आपत्ति जताई जिसमें जय शाह के व्यवसाय पर एक आलेख प्रकाशित हुआ है।





उन्होंने यहां संवाददाताओं से कहा कि मीडिया की आवाज को दबाने के ऐसे प्रयास से बचा जा सकता था। सिन्हा ने अमित शाह के बेटे का केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल द्वारा किए गए बचाव की तरफ इशारा करते हुए कहा, ‘निश्चित तौर पर मैं कहना चाहूंगा कि जय शाह के बचाव में जिस तरह से एक केंद्रीय मंत्री आगे आए, वह उचित नहीं था। वह केंद्रीय मंत्री हैं न कि जय शाह के चार्टर्ड अकाउंटेंट।’





उन्होंने उन ‘विशिष्ट परिस्थितियों’ पर भी आपत्ति जताई जिनके तहत अतिरिक्त सोलीसीटर जनरल तुषार मेहता को द वायर के खिलाफ मानहानि के मामले में जय शाह की तरफ से मुकदमा लडऩे को मंजूरी दी गई। सिन्हा ने कहा, ‘इतने महीने और वर्षों में हमने जो उच्च नैतिक आधार बनाए थे, वे खत्म होते प्रतीत हो रहे हैं।’

बहरहाल उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि वह आलेख के गुण-दोष पर टिप्पणी नहीं करना चाहते जिसमें बताया गया है कि 2014 में भाजपा के सत्ता में आने के बाद से जय शाह की कंपनी के कारोबार में काफी बढ़ोतरी हो गई। सिन्हा ने कहा कि यह जांच का विषय है और कोई भी सरकारी एजेंसी इसे कर सकती है। भाजपा ने सिन्हा पर कांग्रेस से जुड़े होने के आरोप लगाए हैं।

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :

गजेंद्र चौहान के बाद अब अनुपम खेर बने FTII के चेयरमैन .............






नयी दिल्ली : बॉलीवुड एक्टर अनुपम खेर को पुणे स्थित प्रतिष्ठित फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (FTII) का नया अध्यक्ष चुना गया है. इसकी आधिकारिक घोषणा आज सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की ओर से की गयी है. बताते चलें कि 62 साल के खेर से पहले मशहूर टीवी एक्टर गजेंद्र चौहान इस पद पर थे, जिन्हें नौ जून 2015 को नियुक्त किया गया था.





अनुपम खेर को साल 2004 में पद्मश्री और 2016 में पद्म भूषण पुरस्कार से नवाजा जा चुका है. उन्होंने सारांश, डैडी, कर्मा, राम-लखन, लम्हे, दीवाने, दिलवाले दुल्हनिया ले जायेंगे, मोहब्बतें और मैंने गांधी को नहीं मारा जैसी फिल्मों में अपनी अभिनय क्षमता का लोहा मनवाया.

नयी जिम्मेदारी पाने के बाद अनुपम खेर ने कहा, FTII चेयरमैन के तौर पर नियुक्त किये जाने पर मैं गौरवान्वित महसूस कर रहा हूं. मैं अपने कतर्व्यों का बेहतर निर्वहन करने का हर संभव प्रयास करूंगा.

अनुपम खेर को FTII का अध्यक्ष चुने जाने पर उनकी पत्नी किरण खेर ने उन्हें बधाई दी है. उन्होंने कहा कि संस्थान का अध्यक्ष बनना कांटों का ताज पहनने जैसा है. बहुत लोग आपके खिलाफ होते हैं. वे आपके खिलाफ काम करते हैं. मुझे यकीन है कि अनुपम अपनी जिम्मेदारी अच्छे से निभायेंगे.

किरण खेर ने कहा, अनुपम प्रतिभावान हैं. व्यवस्थित हैं. लंबे समय से एक्टिंग सिखा रहे हैं. वह सेंसर बोर्ड और एनएसडी के भी मुखिया रह चुके हैं और अब वह FTII के मुखिया होंगे.



यहां जानना गौरतलब है कि पूर्व अध्यक्ष गजेंद्र चौहान का कार्यकाल 3 मार्च 2017 को खत्म हो गया था. उनका 14 महीने का कार्यकाल विवादों भरा रहा. बताया जाता है कि इस दौरान गजेंद्र चौहान सिर्फ एक बार ही संस्थान में किसी बैठक में शामिल होने गये थे.

गजेंद्र चौहान को FTII का अध्यक्ष बनाये जाने पर छात्र-छात्राओं ने उनका काफी विरोध भी किया गया था. 139 दिनों तक FTII के विद्यार्थियों ने हड़ताल की थी, जिनमें से कुछ छात्रों ने अनशन पर भी रहे थे.

जहां FTII के छात्र चौहान के कैंपस से बाहर रहने पर नाराज थे, तो उनकी काबिलियत पर सवाल उठाते हुए फिल्मी जगत के कई कलाकारों ने भी चौहान को संस्थान का उच्चतम पद देने का विरोध किया था.

विरोध इतना जोरदार था कि छात्रों ने पुणे से लेकर दिल्ली के जंतर-मंतर तक प्रदर्शन किया था. इस वजह से चौहान अपनी नियुक्ति के सात महीने तक अपना पदभार संभाल नहीं पाये थे.

अनुपम खेर से पहले, श्याम बेनेगल, अदूर गोपालकृष्णन, सईद मिर्जा, महेश भट्ट, मृणाल सेन, विनोद खन्ना और गिरिश कर्नाड जैसे कलाकार और फिल्मकार FTII के अध्यक्ष रह चुके हैं.

वहीं बात करें यहां से पढ़नेवालों की, तो इनमें शबाना आजमी, शत्रुघ्न सिन्हा, रजा मुराद, रेसुल पुकुट्टी, स्मिता पाटिल, नसीरुद्दीन शाह, जया बच्चन और ओम पुरी जैसे दिग्गज कलाकार शुमार हैं.

Add :

 
Copyright © 2014 Akhand Bharat Times | Hindi News Portal | Latest News in Hindi : हिंदी न्यूज़ . Designed by OddThemes & Customised By News Portal Solution