BREAKING NEWS

Politics (राजनीति)

Sports (खेल-खिलाड़ी)

International (अंतरराष्ट्रीय)

Thursday, 23 March 2017

मक्का मस्जिद धमाके में भी असीमानंद को मिली जमानत , अजमेर ब्लास्ट मामले में भी हो चुके हैं बरी , जल्द ही जेल से .....






हैदराबाद की मक्का मस्जिद धमाका मामले में स्वामी असीमानंद की रिहाई का रास्ता साफ हो गया है। हैदराबाद की अदालत ने भी उन्हें जमानत दे दी है। असीमानंद जल्द ही जेल के बाहर आ सकते हैं।

असीमानंद पर 2007 में मक्का मस्जिद में हुए धमाकों में शामिल होने का आरोप है और इसी सिलसिले में उनपर मुकदमा चल रहा है। फिलहाल वो जयपुर की जेल में हैं। इस घटना में नौ लोग मारे गए थे।
हाल ही में असीमानंद को अदालत ने अजमेर ब्लास्ट मामले में बरी किया है। इसके अलावा मालेगांव और समझौता धमाके मामले में पहले ही उन्‍हें जमानत मिल चुकी है।

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :


हैदराबाद की अदालत के जमानत देने के बाद राष्ट्रीय जांच एजेंसी को बेल की कॉपी शुक्रवार को मिलेगी, जिसके ही असीमानंद को मिली जमानत का विरोध करना है या नहीं इस पर फैसला किया जाएगा।
असीमानंद को निर्देश दिया गया है कि वो अदालत की इजाजत के बगैर हैदराबाद से बाहर नहीं जाएंगे और जरूरत पड़ने पर मुकदमे की सुनवाई के लिए उपस्थित रहेंगे।





एनआईए ने 2007 के समझौता ट्रेन धमाके मामले में असीमानंद की जमानत का विरोध नहीं किया था। असीमानंद समझौत ट्रेन ब्लास्ट के मुख्य आरोपियों में से एक है। 2014 में पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट ने असीमानंद को इस मामले में जमानत दी थी।

8 मार्च को असीमानंद और छह अन्य को 2007 के अजमेर विस्फोट मामले में जयपुर की एक अदालत ने बरी कर दिया था। मक्का मस्जिद मामले में कुल 166 गवाहों से मुकदमे के दौरान पूछताछ की गई है और 100 से अधिक गवाहों से पूछताछ की जानी अभी बाकी है।

इस मामले के आठ आरोपियों में तीन पहले से जमानत पर हैं। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने यह मामला सीबीआई से अपने हाथ में ले लिया था।

अखिलेश के दुलारे अधिकारियों में "योगी सरकार" का खौफ , दिए गए शक्त निर्देश , कानून राज स्थापित करो वर्ना वर्दी उतार ........






उत्तर प्रदेश में बीजेपी की योगी आदित्यनाथ सरकार जब से सत्ता में आई है, तभी से ही लगातार एक्शन में दिखाई दे रही है. योगी सरकार के एक मात्र मुस्लिम चेहरे अल्पसंख्यक मंत्री मोहसिन रजा गुरुवार को अपने दफ्तर अचानक निरीक्षण करने पहुंचे. मोहसिन रजा ने हज कमेटी के अफसरों को कड़ी फटकार लगाई.

आजम की तस्वीर देख भड़के


मोहसिन रजा जब दफ्तर पहुंचे, तो वहां चेंबर के बाहर लगी आजम खान की तस्वीर देख कर भड़क गये. उन्होंने हज कमेटी के सचिव को तुरंत व्यवस्था बदलने के निर्देश दिये हैं. वहीं उन्होंने वहां अधिकारियों से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तस्वीरें लगाने के आदेश दिये. इसके साथ ही लोगों की

सुविधाओं को बढ़ाने पर पीएम की घोषणाओं को जगह-जगह लिखने को कहा है.

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :




लिया सुविधाओं का जायजा


मोहसिन रजा ने सबसे पहले लोगों को मिलने वाली सुविधाओं का जायजा लिया, वहीं कबाड़ में सड़ रही एक नई कार को लेकर फटकार लगाई है. मंत्री ने पीने के पानी को लेकर भी अधिकारियों को फटकार लगाई.

इधर अचानक योगी आदित्यनाथ खुद पुलिस स्टेशन पहुँच कर लिया जायजा :
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गुरुवार सुबह अचानक लखनऊ के हजरतगंज पुलिस स्टेशन मुआयना करने पहुंचे. योगी आदित्यनाथ ने थाने में कामकाज का जायजा लिया, योगी आदित्यनाथ ने स्वच्छता का निरीक्षण किया. मुख्यमंत्री ने थाने में अफसरों की तैनाती, उनकी संख्या, काम और सफाई पर सवाल पूछे और कहा कि हर मोर्चे पर यूपी पुलिस को चुस्त-दुरुस्त करेंगे. सीएम योगी ने कहा कि यूपी में कानून का राज होगा.

ये बस एक शुरुआत है: CM योगी


योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कानून-व्यवस्था, प्रशासन की तैयारी और अफसरों की बहाली पर जानकारी ली. योगी आदित्यनाथ ने कहा कि यूपी की जनता के लिए हित के लिए सभी जरूरी कदम उठाए जाएंगे. ये बस एक शुरुआत है.





'थाने में फरियादियों के लिए हो पूरी सुविधा'
मीडिया के सवालों पर योगी ने कहा कि मुझे चेक करने दीजिए. सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पीने के पानी और सफाई की व्यवस्था देखनी होगी. गौरतलब है कि कानून व्यवस्था और गृह विभाग योगी ने खुद अपने पास रखा है. सीएम पद संभालने के बाद से योगी आदित्यनाथ एक्शन मोड में नजर आ रहे हैं. योगी ने थाने में पुलिसकर्मियों से बातचीत की. योगी ने कहा कि जो भी फरियादी आते हैं, उनकी सुविधाओं का जायजा लेने आया हूं.

संगीत सोम भी मिले :
इससे पहले उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से गुरुवार सुबह सरधना से बीजेपी विधायक संगीत सोम मिलने पहुंचे. संगीत सोम के साथ बीजेपी सांसद राम शंकर कठेरिया और कई अन्य विधायक भी सीएम से मिलने पहुंचे.

संगीत सोम ने कहा कि मैं एक छोटा-सा कार्यकर्ता हूं, संगठन जिसे भी सही समझेगा, उसे जिम्मेदारी देगा. संगीत सोम बोले कि लोगों के पलायन का मुद्दा जल्द ही दूर होगा, वहीं बूचड़खानों पर कार्रवाई में कल से और तेजी आएगी.

जब अपने दफ्तर के बाहर गंदगी देख झाड़ू लगाने लगे योगी के मंत्री : उत्तर प्रदेश के नए नवेले मंत्री उपेंद्र तिवारी अचानक ही चर्चा में है. दरअसल तिवारी का एक वीडियो वायरल हो रखा है, जिसमें वे विधानसभा स्थित अपने दफ्तर के बाहर झाड़ू लगाते दिख रहे हैं.

हुआ यूं कि योगी आदित्यनाथ के मंत्री उपेंद्र तिवारी जब विधानसभा में अपने दफ्तर पहुंचे, तो वहां कचरा बिखरा पाया. इसे देखते हुए उन्होंने झाड़ू उठाया और सफाई करने लग गए. इस दौरान वहां मौजूद अधिकारी दंग खड़े देखते रहे.

यूपी के 44 वर्षीय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने मंत्रियों के साथ शपथ ली थी वे अपने आस-पास के इलाके को साफ रखेंगे. उन्होंने अपने मंत्रियों साफ-सफाई के काम के साल भर में 100 घंटे देने का कहा था.

इससे पहले सीएम आदित्यनाथ कल खुद सचिवालय का औचक निरीक्षण किया था. इस दौरान उन्हें सीढ़ियों और दीवारों पर गुटखे के निशान दिखे, जिसके बाद उन्होंने लोक भवन के अंदर सभी अधिकारियों के पान-गुटखा खाने पर बैन लगा दी.

Tuesday, 21 March 2017

फुल एक्शन में योगी सरकार , 11 जिलों में "एंटी रोमियो स्‍क्‍वाड" बनाने के आदेश जारी किये गए , भूमाफिया और शराब पर भी .....






उत्‍तर प्रदेश में योगी आदित्‍यना‍थ के नेतृत्‍व में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनने के बाद उसके ‘संकल्‍प पत्र’ पर अमल शुरू हो गया है। किसानों के कर्ज पर भले ही अभी तक कोई फैसला न हुआ हो, मगर मंगलवार को ‘एंटी रोमियो स्‍क्‍वाड’ बनाने के आदेश जारी कर दिए गए हैं। उत्‍तर प्रदेश पुलिस ने लखनऊ जोन के 11 जिलों में छेड़खानी को रोकने के लिए ‘एंटी रोमियो स्‍क्‍वाड’ बनाने को कहा है। लखनऊ जोन के आईजी सतीश गणेश ने कहा, ”छेड़खानी और उनपर (महिलाओं और लड़कियों पर) भद्दे कमेंट करने वालों को रोकने के लिए, पुलिस थाना स्‍तर पर एंटी रोमियो दल बनाए जाएंगे। यह स्‍क्‍वाड गुंडा एक्‍ट के तहत आरोपियों पर कार्रवाई करेगी।”

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :


आईजी के आदेश में कहा गया है कि गो-हत्‍या और जानवरों की तस्करी पकड़ने की कोशिश होनी चाहिए और इसमें शामिल लोगों को गिरफ्तार किया जाना चाहिए। बीजेपी ने अपने घोषणापत्र में वादा किया था कि अगर बीजेपी यूपी में चुनाव जीतकर सत्ता में आती है तो वह एक एंटी स्‍क्‍वाड स्क्वाड बनाएगी, जो कि स्कूल कॉलेजों आदि में पढ़ने वाली युवतियों की सुरक्षा करेगी।





आईजी ने कहा है कि जिन मामलों में जांच पूरी हो चुकी है, आखिरी रिपोर्ट कोर्ट में दाखिल की जानी चाहिए और गंभीर अपराधों की समीक्षा होनी चाहिए ताकि अपराधियों को जेल भेजा जा सके। आईजी ने पुलिस को महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों पर नियंत्रण, इनामी बदमाशों की गिरफ्तारी, गैंगस्‍टर एक्‍ट में निरुद्ध मामलों का फॉलो-अप, भूमि माफिया की गतिविधियों की जांच और अवैध शराब पर लगाम लगाने के भी निर्देश दिए हैं।

ममता बानों को झटका: SC ने बरकरार रखा आदेश , नारद स्टिंग की होगी CBI जांच






तृणमूल कांग्रेस को झटका देते हुए सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को कलकत्ता हाईकोर्ट का वह आदेश बरकरार रखा, जिसमें सीबीआई से नारद स्टिंग मामले की जांच करने को कहा गया था। इस मामले में पश्चिम बंगाल में सत्ताधारी पार्टी के कई नेता कथित तौर पर पैसे लेते हुए कैमरे में कैद किए गए थे।

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :


ममता बनर्जी की अगुवाई वाली राज्य सरकार की ओर से हाईकोर्ट के 17 मार्च के आदेश के खिलाफ दायर एक अलग अपील में बताए गए आधारों को शीर्ष न्यायालय ने बेहद दुभार्ग्यपूर्ण करार देते हुए कहा कि याचिका सिरे से खारिज करने लायक है।




मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति जे.एस. खेहर की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि हाईकोर्ट के निष्कर्षों में उसे कोई विसंगति नजर नहीं आती। बहरहाल, पीठ ने इस मामले में प्राथमिकी दर्ज करने के लिए सीबीआई को दिए गए 72 घंटे की मोहलत को बढ़ाकर एक महीना कर दिया। न्यायालय ने कहा, हम इससे भी संतुष्ट हैं कि सीबीआई को अपने दायित्व का निर्वाह करने दिया जा रहा है और आदेश में निकाले गए सभी निष्कर्ष या अनुमान जरूरी नहीं कि एजेंसी के निष्कर्षों की राह में आड़े आ जाएं।
न्यायालय ने राज्य सरकार की अपील को तब वापस लेने की इजाजत दी जब उसके वकील ने ऐसे आधार बताने के लिए बिना शर्त माफी मांगी, जिनसे उच्च न्यायालय पर कथित तौर पर लांछन लगते हों।

योगी सरकार इफेक्ट : 48 घंटे के अन्दर लगभग 200 से ज्यादा कत्लखाने बंद करा दिए गए है , ये है एक योगी का गौ प्रेम






इलाहाबाद के बाद अब पीएम नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी  में 1 और गाजियाबाद में लगभग 15 , कानपुर में 6 , मेरठ में 10 , जौनपुर में 5 अवैध बूचड़खानों को बंद करा दिया गया है। मीडिया रिपोर्ट्स के हवाले से यह जानकारी सामने आ रही है।

मीडिया के हवाले से जो खबरे आ रही है उसमें लगभग 200 से ज्यादा कत्लखाने जो अवैध रूप से चलाए जा रहे थे उसे बंद करा दिया गया है । 

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :


वाराणसी के जैतपुरा इलाके में स्थित एक अवैध बूचड़खाने को बंद कराया गया है। वहीं गाजियाबाद के अलग-अलग इलाकों से भी लगभग 15 अवैध बूचड़खाने बंद कराए जाने की खबर आ रही हैै। बता दें कि योगी आदित्यनाथ के उत्तर प्रदेश के सीएम पद की शपथ लेने के महज 24 घंटे से भी कम समय में अवैध बूचड़खानों पर कार्रवाई शुरू होगई। बीते सोमवार को भी इलाहाबाद में दो बूचड़खाने सील किए गए थे। नगर निगम प्रशासन ने इलाहाबाद के अटाला अवुरी के चकदोंदी मोहल्ले और रामबाग अवुरी इलाके में स्थित दो बूचड़खानों को बंद सील किया था।





कई रिपोर्ट्स का दावा है कि राज्यभर में लगभग 250 रजिस्टर्ड बूचड़खाने हैं। भारतीय जनता पार्टी ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव प्रचार में अवैध बूचड़खानों को बंद करने की बात प्रथामिक्ता के साथ कही थी और उस काम में जुट गई है। योगी आदित्यनाथ और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, दोनों ने ही चुनावी रैलियों के दौरान यूपी में सत्ता में आने पर अवैध बूचड़खानों को बंद करने की बात कही थी।

योगी आदित्यनाथ का एलान : अयोध्या में 25 एकड़ में बनेगा भव्य "रामायण म्यूजियम" , महज 1 हफ्ते में हीं शुरू हो जायंगे कार्य







उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रामायण म्यूजियम के लिए जमीन देने का एेलान किया है। इसके लिए 25 एकड़ भूमि आवंटित की जाएगी। अयोध्या में बनने वाले इस म्यूजियम के निर्माण का काम हफ्ते भर में शुरू हो जाएगा। आपको बता दें कि आज (21 मार्च) को ही राम मंदिर-बाबरी मस्जिद मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने अहम टिप्पणी की है। चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (सीजीआई) ने कहा है कि दोनों पक्ष इस मामले को कोर्ट के बाहर सुलझा लें तो ठीक रहेगा।

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :


सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि यह धर्म और आस्था से जुड़ा मामला है इसलिए इसको कोर्ट के बाहर सुलझा लेना चाहिए।  कोर्ट ने यह भी कहा है कि अगर दोनों पक्षों के बीच बातचीत सफल नहीं होती है तो फिर सुप्रीम कोर्ट दखल देगा। इसके लिए एक सुलह करवाने वाला व्यक्ति नियुक्त करने की भी बात कही जा रही है।





इस पर राम मंदिर की तरफ से लड़ रहे सुब्रमण्यम स्वामी ने बताया कि कोर्ट ने कहा कि मस्जिद कहीं भी बन सकती है। इस मामले पर अब 31 मार्च को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होगी। लेकिन इस मामले पर बाबरी मस्जिद कमेटी ने सीजीआई खेहर की बात मानने से इंकार कर दिया है। कमेटी के ज्वॉइंट कंवीनर डॉ एसक्यूआर इलयास ने कहा, ‘हमें चीफ जस्टिस की बात मंजूर नहीं है। इलाहबाद हाई कोर्ट पहले ही अपना निर्णय दे चुका है। मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड को लगता है कि बातचीत का वक्त अब खत्म हो चुका है।’ उन्होंने बाबरी मस्जिद कमेटी और विश्व हिंदू परिषद के बीच हुई पिछली बातचीत का भी जिक्र किया जो कि किसी फैसले पर नहीं पहुंची थी।

कांग्रेस और ममता बनर्जी के सहयोग से बंगलादेश के रास्ते लगभग 2000 आतंकीयों को घुसपैठ कराया गया , आखिर क्या चाहती है ममता ?







भारत में हूजी और जेएमबी के दो हजार से ज्यादा आतंकी घुसपैठ कर चुके हैं। इनमें से करीब 720 बंगाल की सीमा और बाकी 1,290 संदिग्ध असम और त्रिपुरा की सीमाओं से घुसपैठ कराए गए हैं। ये आतंकी भारत के अलग-अलग हिस्सों में वेश-भूषा और भाषा बदल कर रह रहे हैं। इस रिपोर्ट के मुताबिक, साल 2015 के मुकाबले 2016 में पश्चिम बंगाल, असम और त्रिपुरा की सीमाओं पर हरकत-उल-जिहादी अल-इस्लामी (हूजी) और जमात-उल-मुजाहिद्दीन बांग्लादेश (जेएमबी) के आतंकियों की घुसपैठ तीन गुना ज़्यादा देखी गई।

यह रिपोर्ट इसलिए भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि अक्टूबर 2014 में बर्दवान ज़िले के खागरागढ़ में हुए ब्लास्ट की जांच में नैशनल इन्वेस्टिगेशन एजेन्सी (एनआईए) ने अपनी जांच पाया था कि उस ब्लास्ट के बाहरी तार जेएमबी से जुड़े हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि हूजी और जेएमबी के दो हज़ार से ज़्यादा ऑपरेटिव इन तीनों राज्यों में घुस चुके हैं। इनमें से करीब 720 बंगाल की सीमा और बाकी 1,290 संदिग्ध असम और त्रिपुरा की सीमाओं से आए हैं।

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :



हालांकि रिपोर्ट को लेकर बंगाल सरकार के अधिकारियों ने संदेह जाहिर किया है। लेकिन अगर यह संख्या अनुमान के आसपास है तो भी यह परेशानी की बात है क्योंकि खुफिया रिपोर्ट्स के मुताबिक साल 2014 में 800 और 2015 में 659 आतंकियों ने घुसपैठ की थी।

ज्ञात हो की बंग्लादेसियों के समर्थन में खुल कर आगे आयीं थी ममता बनर्जी , खुल कर मोदी को चुनौती दी थी की हिम्मत है तो बंग्लादेसियों को आने से रोक कर दिखाए और जो आ चुके हैं उसे बाहर कर के दिखाएँ , यहाँ तक कह दी थी की जो बांग्लादेसी यहाँ रहा रहा है उसे सिर्फ छु कर दिखा दे मोदी सरकार .





हाल ही के दिनों में पश्चिम बंगाल में कई एकतरफा दंगे हुए , जिसमें सिर्फ हिन्दुओं को टारगेट बनाया जा रहा है .
इसे भी इस नजरिये  से देखा जाना चाहिए ।

क्या सिर्फ मुस्लिम वोटबैंक के कारण ऐसी देशद्रोही कार्य करना जायज है ? हालांकि प्रश्न में ही उत्तर छिपा है लेकिन यहाँ ऐसे ऐसे लोग है या कहें देशद्रोही बैठें हैं की किसी भी घटनाओं को अपने तरीके से सही साबित करने में दिन रात एक कर जुटे रहतें हैं . जो देश के लिए खतरनाक और शर्मनाक है ।

Monday, 20 March 2017

राम मंदिर-बाबरी मस्जिद का मामला कोर्ट से बाहर सुलझाइये : सुप्रीम कोर्ट , अगर नहीं सुलझा तो हम हैं ....






राम मंदिर-बाबरी मस्जिद मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने अहम टिप्पणी की है। 21 मार्च को चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (सीजीआई) की तरफ से कहा गया है कि दोनों पक्ष इस मामले को कोर्ट के बाहर सुलझा लें तो ठीक रहेगा। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि यह धर्म और आस्था से जुड़ा मामला है इसलिए इसको कोर्ट के बाहर सुलझा लेना चाहिए। कोर्ट ने इसपर सभी पक्षों को आपस में बैठकर बातचीत करने के लिए कहा है। इसपर राम मंदिर की तरफ से लड़ रहे सुब्रमण्यम स्वामी ने बताया कि कोर्ट ने कहा कि मस्जिद को कहीं भी बन सकती है।

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :



अयोध्या के इस मसले पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि अगर दोनों पक्षों के बीच बातचीत सफल नहीं होती है तो फिर सुप्रीम कोर्ट दखल देगा। इसके लिए एक सुलह करवाने वाला व्यक्ति नियुक्त करने की भी बात कही जा रही है।

राम मंदिर विवाद काफी पहले से चल रहा है। 6 दिसंबर 1992 को एक राजनीतिक रैली के बाद कारसेवकों ने विवादित इलाके पर बनी बाबरी मस्जिद को गिरा दिया था।





30 सितंबर 2010 को इलाहबाद कोर्ट ने भी इस मामले पर सुनावाई की थी। उनकी तरफ से फैसला करके 2.77 एकड़ की उस जमीन का बंटवारा कर दिया गया था। जिसमें जमीन को तीन हिस्सों में बांटा गया था। जिसमें ने एक हिस्सा हिंदू महासभा को दिया गया जिसमें राम मंदिर बनना था। दूसरा हिस्सा सुन्नी वक्फ बोर्ड को और तीसरा निरमोही अखाड़े वालों को। लेकिन फिर 9 मई को इलाहबाद हाई कोर्ट के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट ने स्टे लगा दिया था।

बड़ी खबर : आप नेता पूर्व कानून मंत्री जितेन्द्र सिंह तोमर की एलएलबी की डिग्री रद्द कर दी गयी






आखिरकार तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय की सीनेट ने दिल्ली के विधायक और आप सरकार के पूर्व कानून मंत्री जितेंद्र सिंह तोमर की कथित एलएलबी की डिग्री रद्द कर दी। सीनेट की बैठक सोमवार यानी 20 मार्च को टीएनबी कॉलेज में प्रभारी कुलपति क्षमेंद्र कुमार सिंह की अध्यक्षता में हुई जिसमें विश्वविद्यालय का 755 करोड़ रुपए का बजट भी पारित किया गया। इससे पहले पूर्व कुलपति प्रो. रमाशंकर दूबे की अध्यक्षता में सिंडिकेट की 3 दिसंबर को हुई बैठक में तोमर की डिग्री रद्द करने का फैसला लिया गया था और उस पर अंतिम निर्णय के लिए राज्यपाल सह कुलाधिपति के पास भेजा गया था। लेकिन राजभवन ने इस काम के लिए सीनेट को अधिकृत कर दिया था और 20 मार्च को बैठक बुलाने की इजाजत दी थी। इससे पहले विश्वविद्यालय के परीक्षा विभाग ने 2 दिसंबर को बैठक में तोमर की डिग्री रद्द करने की सिफारिश सिंडिकेट को भेजी थी। इसके साथ ही मामले में आरोपी 14 अधिकारियों और कर्मचारियों पर कार्रवाई की अनुशंसा भी की गई थी।

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :


प्रभारी कुलपति ने जनसत्ता.कॉम को बताया कि दिल्ली पुलिस ने 23 जनवरी को पत्र लिखकर विश्वविद्यालय के दोषी कर्मचारियों पर कार्रवाई करने के लिए अनापत्ति पत्र (एनओसी) मांगा था। 7 फ़रवरी को कार्यभार संभालते ही 9 फ़रवरी को स्पीड पोस्ट से इस बारे में दिल्ली पुलिस को पत्र भेज दिया गया है। यहां यह बताना जरूरी है कि इससे पहले भी दो बार तोमर मुद्दे पर परीक्षा बोर्ड की बैठक हो चुकी है। एक बार अनुशासन समिति की भी बैठक हो चुकी है जिसमें इस मामले पर पूर्व प्रतिकुलपति अवधेश किशोर राय की अध्यक्षता में बनी आंतरिक जांच समिति की रिपोर्ट मंजूर की गई थी। जांच समिति ने कानून की डिग्री रद्द करने के लिए तोमर से जवाब तलब किया था। साथ ही विश्वविद्यालय और मुंगेर के विश्वनाथ सिंह कॉलेज ऑफ लीगल स्टडीज के 14 अधिकारियों और कर्मचारियों से भी पूछताछ की थी। तोमर के जवाब से बोर्ड संतुष्ट नहीं था। फिर भी उन्हें जवाब देने का कई मौका दिया।





यह अलग बात है कि इस मामले में दोषी ठहराए गए दो परीक्षा नियंत्रक समेत 14 अधिकारियों और कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई करने में विश्वविद्यालय प्रशासन अभी भी लीपापोती कर रहा है लेकिन दिल्ली पुलिस की सूची में इनके अलावा 5 और नाम हैं जिनका खुलासा अदालत में आरोप पत्र दायर होने के बाद हो सकेगा। लिहाजा, तबतक यूनिवर्सिटी के कर्मचारियों में खौफ और संशय बना हुआ है। बता दें कि दिल्ली पुलिस ने अपनी जांच में पाया है कि मुंगेर के विश्वनाथ सिंह कॉलेज ऑफ लीगल स्टडीज में साल 1994 में एलएलबी में दाखिला लेते वक्त तोमर ने अवध विश्वविद्यालय फैजाबाद से विज्ञान स्नातक की डिग्री और बुंदेलखंड विश्वविद्यालय, झांसी का माइग्रेशन सर्टिफिकेट साल 2001 में जमा किया था। जांच में ये दोनों कागजात फर्जी पाए गए थे। भागलपुर तिलकामांझी विश्वविद्यालय ने भी अपने स्तर से जांच कराई थी, उसमें भी उनके दस्तावेज जाली साबित हुए थे।

इस सिलसिले में दिल्ली के हौज खास थाना के एसएचओ सतिंदर सांगवान की अगुवाई में जांच टीम 6 बार भागलपुर आई और हर बार तहकीकात कर नए सुराग की तलाश करती रही। इस दौरान कुलपति, प्रतिकुलपति, कुलसचिव डा. आशुतोष प्रसाद से भी मुलाकात की। सांगवान ने मुंगेर के वीएनएस कॉलेज ऑफ लीगल स्टडीज के अधिकारियों और कर्मचारियों से भी पूछताछ की। पुलिस जांच अधिकारी ने साल 1994 से अबतक रहे विश्वविद्यालय के सभी पर परीक्षा नियंत्रकों की सूची कुलसचिव से मांगी है। टेबुलेशन रजिस्टर और इससे जुड़े कई कागजात भी यहां से ले गई। विश्वविद्यालय के दो अधिकारियों को दिल्ली जाकर इन कागजातों को सत्यापित भी करना पड़ा था। अब क़ानूनी पहलू पर पुलिस मशविरा कर रही है। ताकि आरोप पत्र दायर करने में कोई चूक न रह जाए। सूचना है कि 22 मार्च को दिल्ली पुलिस इस सिलसिले में फिर भागलपुर आ रही है।

चारा चोर का अनपढ़ बेटा , योगी आदित्यनाथ को बताया अयोग्य मुख्यमंत्री , पब्लिक बोली इस अनपढ़ को जीजाजी की हार ....






महंत आदित्यनाथ को उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाये जाने पर राष्ट्रीय जनता दल की तरफ से लालू के बेटे ने चुटकी ली तो बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने इस बयान पर अपने तरीके से तीखा पलटवार किया. शनिवार को योगी आदित्यनाथ के शपथ के ऐलान के बाद बिहार के उप मुख्यमंत्री लालू प्रसाद के बेटे तेजस्वी यादव ने योगी आदित्यनाथ को अयोग्य मुख्यमंत्री करार दिया था।


"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :



सुशील मोदी ने पलटवार करते हुआ हुए कहा कि कम से कम योगी आदित्य नाथ नॉन मैट्रिक से बढिया है। मोदी जी ने कहा योग्यता पर सवाल उठा रहे हैं वो राजनितिक परिवार का होते हुए खुद मैट्रिक भी पास नहीं कर पाए। जब इनकी माता श्री अनपढ़ होने पर मुख्यमंत्री बनी रही योगी जी इनसे लाख गुने अच्छे है, योगी जी तो ग्रेजुएट है, राबड़ी देवी से लाख गुना अच्छी सरकार देंगे योगी आदित्य नाथ।





वहीँ शोसल साईट के माध्यम से पब्लिक अपना रियेक्सन देते हुए कह रही है :

ये बेवकूफ पगला गया , बेचारा जीजाजी की इतनी बुरी हार को बर्दास्त नहीं कर पा रहा है , वियोग में पागल हो गया इसे रांची के पागलखाना भेजो , इलाज जरूरी .
ऐसे-ऐसे कई रिएक्शन आ रहें हैं ...... कोई कह रहा है इस अनपढ़ की बातों पर क्या ध्यान देना , कुछ भी कह सकता है .

Sunday, 19 March 2017

"केंद्र में मोदी , UP में योगी" सरकार से घबराया चीन , बोला अब तो विरोध करने वाला भी नहीं बचा






उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में बीजेपी को मिली करिश्माई जीत के बाद चीन की प्रतिक्रिया सामने आई है। चीन की सरकारी मीडिया ने टिप्पणी करते हुए कहा, 'बीजेपी की प्रंचड जीत के बाद भले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता बढ़ी हो, लेकिन पार्टी के भीतर उनकी मजबूत पकड़ के चलते कोई भी उनके खिलाफ बोलने की हिमाकत नहीं कर सकता है।

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :



पार्टी में उनके खिलाफ असंतोष और विरोध की संभावनाएं पूरी तरह से खत्म हो गई हैं। '

इस चुनाव में प्रधानमंत्री की लोकप्रियता को स्वीकार किया गया है, जिसमें उन्होंने कई सार्वजनिक भाषणों में खुद को और अपने कार्यों को मुख्य मुद्दा बनाया है। चीन के सरकारी समाचार पत्र ग्लोबल टाइम्स ने लिखा, 'यूपी में अप्रत्याशित जीत के बाद पार्टी के भीतर मोदी की स्थिति मजबूत हुई है।'





उन्होंने कहा, मोदी वास्तव में मानते हैं कि वह भारत में कई समस्याओं का समाधान काफी अच्छे से कर सकते हैं। उत्तर प्रदेश चुनावों के बाद चीन के समाचार पत्र में यह दूसरा लेख है। इससे पहले 16 मार्च को आलेख में कहा था कि 2019 में मोदी के सत्ता में लौटने की प्रबल संभावना है।

अब भारत को विकशित राष्ट्र बना देंगे मोदी , अखबार में कहा गया है कि आने वाले दिनों में मोदी नोटबंदी की तरह की कई अन्य चौंकाने वाले फैसले ले सकते हैं , जिससे भारत दुनिया में सबसे आगे निकल सके ।

Saturday, 18 March 2017

योगी आदित्यनाथ के कैबिनेट में "संगीत सिंह सोम" होंगे हज / अल्पसंख्यक मंत्री , तथाकथित सेकुलर जमात सदमें में ....






उत्तर प्रदेश में रविवार को योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। वहीं राज्य को पहली बार दो उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और दिनेश शर्मा के रूप में मिलेगा।

शनिवार को लंबी मंत्रणा के बाद भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने गोरखपुर से सांसद और उग्र हिंदुत्ववादी नेता योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री पद के लिए चुना।

बीजेपी के वरिष्ठ नेता एम. वेंकैया नायडू ने नवनिर्वाचित विधायकों की बैठक के बाद कहा कि पार्टी की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य और लखनऊ के मेयर दिनेश शर्मा उपमुख्यमंत्री होंगे। शपथ ग्रहण समारोह रविवार को होगा।

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :



योगी आदित्यनाथ के कैबिनेट में युवाओं और सामाजिक समीकरण साधने के साथ क्षेत्रीय संतुलन को तवज्जो दी जा सकती है। वहीं गठबंधन को साधने के लिए अपना दल के एक विधायक को मंत्री बनाया जाएगा।
सूत्रों के मुताबिक गृहमंत्री राजनाथ सिंह के बेटे और पहली बार नोएडा से विधायक चुने गये पंकज सिंह को मंत्रिमंडल में जगह मिल सकती है।

सूत्रों के हवाले से खबर है की हज मंत्री / अल्पसंख्यक मंत्री संगीत सोम को बनाया जाएगा . ये ठीक वैसे ही सेकुलर सोच माना जा रहा है जैसे अखिलेश यादव के कार्यकाल में कुम्भ मेले का प्रभारी आजम खान को बनाया गया था .

बीजेपी सरकार में लखनऊ से भी कई चेहरों को शामिल किए जाने की चर्चा जोरों पर है, इनमें मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव को हराने वाली रीता बहुगुणा जोशी, लालजी टंडन के पुत्र आशुतोष टंडन उर्फ गोपाल टंडन प्रमुख हैं। साथ ही दयाशंकर सिंह की पत्नी स्वाति सिंह को भी मौका मिल सकता है।
उत्तर प्रदेश कैबिनेट में स्वामी प्रासद मौर्य, बृजेश पाठक, सुरेश राणा, संगीत सोम, रामपाल वर्मा, ब्रजेश पाठक, राधा मोहन दास अग्रवाल, रानी पक्षालिका सिंह को भी जगह मिल सकती है। मौर्य बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) से बीजेपी में शामिल हुए हैं।





'सबका साथ सबका विकास' की रट लगा रही भाजपा ने भले ही अल्पसंख्यकों के एक बड़े वर्ग मुस्लिम समुदाय से किसी को टिकट न दिया हो, लेकिन अल्पसंख्यक (सिख) कोटे से विधायक हरिमिंदर सिंह उर्फ रोमी साहनी को जगह मिलनी तय है। वह बीएसपी छोड़कर बीजेपी में आए और विधायक चुने गए हैं।

बीजेपी सरकार में पार्टी के वरिष्ठ नेता व सबसे ज्यादा आठ बार विधायक चुने गए सुरेश खन्ना, सातवीं बार विधायक बने सतीश महाना, वरिष्ठ नेता राधा मोहन दास अग्रवाल, हृदय नारायण दीक्षित, वरिष्ठ नेता सूर्य प्रताप शाही, जयप्रताप सिंह, जगन प्रसाद गर्ग, धर्मपाल सिंह को कैबिनेट में जगह मिल सकती है।

योगी आदित्यनाथ होंगे सूबे के मुख्यमंत्री, केशव प्रसाद मौर्य और दिनेश शर्मा डिप्टी सीएम ....






उत्तर प्रदेश के गोरखपुर से भाजपा सांसद योगी आदित्यनाथ सूबे के अगले मुख्यमंत्री होंगे। शनिवार को लखनऊ में भाजपा विधायकों की हुई बैठक में उन्हें विधायक दल का नेता चुना गया है। इसके साथ ही यूपी भाजपा अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य और लखनऊ के मेयर दिनेश शर्मा को डिप्टी सीएम उम्मीदवार चुना गया है। भाजपा ने नतीजे आने के 7 दिनों बाद यह फैसला किया है। योगी आदित्यनाथ रविवार को लखनऊ में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे।

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :



बता दें, लखनऊ में भारतीय जनता के नवनिर्वाचित विधायकों की बैठक लखनऊ के लोकभवन में हुई। इस बैठक में भाजपा के सभी नए विधायकों के अलावा केन्द्रीय पर्यवेक्षक के रुप में वेंकैया नायडु और भूपेन्द्र यादव और अन्य वरिष्ठ भाजपा नेता भी मौजूद थे। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री की रेस में केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा, यूपी भाजपा अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य और लखनऊ के मेयर दिनेश शर्मा भी शामिल थे। पहले मनोज सिन्हा इस रेस में सबसे आगे थे, लेकिन बाद में आदित्यनाथ का नाम इस रेस में आगे आ गया।





Friday, 17 March 2017

उत्तर प्रदेश : मनोज सिन्हा के नाम पर PMO ने लगाई मुहर , महज औपचारिक एलान बाकी ....






उत्तर प्रदेश के सीएम के तौर पर मनोज सिन्हा के नाम पर पीएमओ की मंजूरी मिल गई है। हाल ही बीजेपी पार्टी की वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी ने इस बारे में जानकारी दी है। अब सिर्फ यूपी के सीएम के नाम को लेकर औपचारिक एलान बाकी है। जो कि कल किया जाएगा। मनोज सिन्हा बीएचयू छात्रसंघ के अध्यक्ष रह चुके हैं। इसके अलावा वे टेलीकॉम मिनिस्टर भी रह चुके हैं। शनिवार को विधायक दल की बैठक होगी, जिसमें प्रधानमंत्री मोदी भी शिरकत करेंगे।  हालांकि पहले मनोज सिन्हा ने सीएम पद के उम्मीदवार की रेस में अपना नाम शामिल किए जाने से इंकार किया था। लेकिन अब खबर आई है कि उनके नाम पीएमओ ने मुहर लगा दी है, अब इंतजार है तो सिर्फ औरचारिक एलान का। बताया जा रहा है कि सोमवार को मनोज सिन्हा यूपी के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ग्रहण करेंगे।

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :



गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में दो-तिहाई बहुमत पाने वाली भारतीय जनता पार्टी की संसदीय बोर्ड की बैठक 16 मार्च को नई दिल्ली में पार्टी मुख्यालय में हुई थी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बैठक में यूपी में सरकार गठन को फिलहाल टालने का निर्णय लिया गया है। रिपोर्ट के मुताबिक संसदीय बोर्ड ने यूपी के सीएम नाम पर अंतिम मुहर लगाने से पहले पार्टी सभी विधायकों की आम स्वीकृति चाहती है। यूपी में प्रचंड बहुमत प्राप्त करने के बाद भाजपा ने कहा था कि यूपी के भावी सीएम का नाम 16 मार्च को सार्वजनिक किया जाएगा लेकिन आज पार्टी ने किसी भी नाम की घोषणा नहीं की। भाजपा के सभी विधायक भी दिल्ली में मौजूद हैं।





भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बैठक खत्म होने के बाद मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि यूपी का सीएम बहुत योग्य होगा। लेकिन प्रसाद ने इससे ज्यादा जानकारी नहीं दी। रिपोर्ट्स के मुताबिक भाजपा संसदीय बोर्ड की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह का फूलों और जय श्री राम के नारों से स्वागत किया गया। यूपी भाजपा के अध्यक्ष केशवल प्रसाद मौर्य भी बैठक में शामिल थे। आपको बता दें यूपी की कुल 402 सीटों में से भाजपा गठबंधन को कुल 325 सीटों पर जीत मिली है। जिसके बाद से ही राज्य के मुख्यमंत्री के नाम पर सस्पेंस जारी है।

UP : गौ ह्त्या पर बीजेपी के तेवर शख्त , शपथग्रहण के पहले हीं कई कत्लखाने सीज किरा दिए गए






यूपी चुनाव के दौरान अमित शाह ने कहा था कि यदि भाजपा कि सरकार आती है तो वो कत्लखाने बंद करवा देंगे . शपथ ग्रहण के पहले ही ब्यूरोक्रेसी सक्रीयता दिखाते हुए जौनपुर के कत्लखाने को सीज करा दिया है ।

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :



अपने वादे को ध्यान में रखते हुए इसकी शुरुआत जौनपुर से कर दिया गया , जल्द ही पुरे उत्तर-प्रदेश में कई बड़े कत्लखाने बंद किये जायेंगे .





इससे सनातन संस्थाएं तो खुश नजर आ रहे है , तो वहीँ मौलवी इसके विरोध कर रहे हैं .

Thursday, 16 March 2017

रामायण और महाभारत को हटा कर अब कुरान पढायेंगी ममता बानों , कुरान के लिए जारी की लगभग 3,000 करोड़ रुपया






पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी की सरकार ने निर्देश दिया है कि संघ परिवार संचालित स्कूलों में पढ़ाए जा रहे पाठ्यक्रमों में से रामायण और महाभारत के अंश हटा दिए जाएं

सरकार के इस निर्देश का विरोध शुरू हो गया है। सरस्वती शिशु मंदिर के शिक्षक-शिक्षिकाएं व संचालन समिति के अधिकारियों ने बुधवार को मालदा जिले के विद्यालय निरीक्षक से इस पूरे मसले की शिकायत की है।

गौरतलब है कि ममता बनर्जी सरकार की नजर सरस्वती शिशु मंदिर सहित ऐसे विद्यालयों पर है, जो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के करीबी बताए जाते हैं। शिशु मंदिर, विवेकानंद शिशु मंदिर, सारदा शिशु तीर्थ जैसे विद्यालय अलग-अलग ट्रस्ट के तत्वावधान में चलाए जाते हैं। पश्चिम बंगाल में इस तरह के करीब 800 स्कूल संचालित किए जाते हैं, जिनमें छात्रों की संख्या 60 हजार के करीब है।

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :



ममता बनर्जी की सरकार ने बुधवार को ‘धार्मिक असहिष्णुता को बढ़ावा देने’ और ‘राज्य द्वारा अनिवार्य पाठ्यक्रम न पढ़ाने’ के आरोप में 125 स्कूलों को नोटिस जारी किया था। अब खबर है कि इन विद्यालयों को निर्देश दिया गया है कि ये अपने पाठ्यक्रमों से रामायण और महाभारत के अंश हटा दें।

मालदा जिले के शिक्षक व सरस्वती शिशु मंदिर विद्यालय संचालन समिति के सचिव गोविंद चंद्र मंडल ने राज्य सरकार के इस निर्णय पर विरोध जताया है।

रिपोर्ट में गोविंद चंद्र मंडल के हवाले बताया गया हैः

“दुनिया में चार महाकाव्य हैं इनमें इलियाड, ओडीसी, रामायण व महाभारत शामिल हैं। ये कोई धर्म ग्रंथ नहीं हैं।”

मंडल ने आरोप लगाया कि राज्य के मदरसों में क्या पढ़ाया जाता है या नहीं पढ़ाया जाता, इसके बारे में लोगों को पता नहीं है।





जबकि मदरसों के लिए लगभग 3000 करोड़ खर्च किये जायेंगे , दुनिया जानती है कैसे मदरसों में सिर्फ एक धर्म के बारे में पढ़ाया जाता है . कैसी सिक्षा व्यवस्था मदरसे में दी जाती है . कैसे बच्चे यहाँ से सिक्षा लेकर निकलतें हैं .

जबकि सरस्वती विद्यामंदिर , R K मिशन जैसे सिक्षा संस्थानों से एक से बढ़कर एक वैज्ञानिक , IS , डॉ निकलते रहतें हैं .

आखिर ममता बनर्जी को सनातन परम्पराओं से इतना नफरत क्यों है ? कभी सरस्वती पूजा बैन करने के फरमान दे देती हैं तो कभी इन्द्रधनुष शब्द से परेशान हो जाती है ? तो कभी बंगलादेशी घुसपैठयों के समर्थन में खुल कर नजर आतीं हैं ? वहीँ मुसलामानों से इतना प्रेम क्यों ?

वहीं, दूसरी तरफ प्रदेश भाजपा नेता अजय गांगुली कहते हैं कि हाल ही में संपन्न हुए पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों के परिणाम की वजह से सत्तादल आतंकित है। इस वजह से संघ परिवार के घनिष्ठ संस्थानों पर वार करने के प्रयास किए जा रहे हैं। शिशु मंदिरों में रामायण महाभारत पर पाबंदी का फतवा इसका सबूत है।

गोआ में पूरी तरह से बिखर गयी कांग्रेस , कांग्रेस के 17 विधायक में से 6 विधायक कांग्रेस से खुद को अलग किया ....






गोवा में मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर की सरकार बनते ही कांग्रेस में बगावत शुरू हो गयी है। राज्य में कांग्रेस के मैनेजमेंट से नाराज विश्‍वजीत राणे ने विधायक और पार्टी सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। हालांकि कार्यवाहक स्पीकर ने उन्हें इस्तीफे पर दोबारा से विचार करने के लिए कहा है।

राणे ने कहा,  'हमने भारी मन से कांग्रेस पार्टी की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया।' खबर है कि राणे की विधानसभा सीट से मनोहर पर्रिकर चुनाव लड़ सकते हैं।

खबर ये भी आ रही है राने के पक्ष में 6 और बिधायक उनके साथ देने को तैयार हैं .

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :



राणे ने बुधवार को कहा था कि वह और 'समान विचार वाले पार्टी के अन्य विधायक यह सोचने पर मजबूर हैं कि भविष्य में कांग्रेस के साथ बने रहें या नहीं।' वरिष्ठ कांग्रेस नेता और विधायक विश्वजीत राणे ने पार्टी उपाध्यक्ष राहुल गांधी से हस्तक्षेप करने और उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है, जिन्होंने सरकार बनाने में लापरवाही बरती।

गौरतलब है कि गोवा विधानसभा में गुरुवार को हुए शक्ति परीक्षण में मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकार ने जीत हासिल कर ली। पर्रिकर ने मंगलवार को राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी। पर्रिकर सरकार के पक्ष में 22 वोट पड़े, जबकि विपक्ष में केवल 16 वोट पड़े।





गोवा की राज्यपाल मृदुला सिन्हा ने पर्रिकर को रविवार को बहुमत साबित करने के लिए 15 दिनों का समय दिया था, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने कांग्रेस नेता चंद्रकांत कावलेकर की याचिका पर सुनवाई करते हुए इस तटीय राज्य की नई सरकार से गुरुवार को ही बहुमत साबित करने को कहा था।

गोवा विधानसभा की 40 सीटों के लिए हुए चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को हालांकि 13 सीटें ही मिली थीं और कांग्रेस 17 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी थी। लेकिन बहुमत के लिए आवश्यक 21 विधायकों के समर्थन का जादुई आंकड़ा पूरा करने में कांग्रेस पीछे रह गई और यहां बीजेपी ने बाजी मार ली।
पार्टी को महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी (एमजीपी) और गोवा फॉरवर्ड के तीन-तीन विधायकों तथा तीन निर्दलीय विधायकों का भी समर्थन हासिल हुआ। कांग्रेस ने बीजेपी पर विधायकों की खरीद-फरोख्त और संवैधानिक प्रावधानों के उल्लंघन का आरोप लगाया है।

Tuesday, 14 March 2017

आतंक के विरोध में गाना गाने से "अल्लाह" होतें हैं नाराज , इसलिए एकसाथ 42 मौलवियों नें जारी किया फतवा






असम में दसवीं क्लास में पढ़ने वाली एक लड़की के खिलाफ 42 मौलवियों ने इसलिए फतवा जारी कर दिया क्योंकि लड़की ने आईएस विरोधी गाना गाया था। 16 साल की नाहिद आफरीन 2015 में सिंगिंग के एक टीवी रिएलिटी शो में द्वितीय विजेता रही थीं। दरअसल नाहिदा ने 25 तारीख को एक मस्जिद और एक कब्रिस्तान के आसपास के क्षेत्र में एक कार्यक्रम किया था। जिसके बाद उनके खिलाफ 42 मौलवियों ने फतवा जारी किया और पब्लिक में गाने पर रोक लगा दी।

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :



फतवे में कहा गया है कि 25 तारीख को हुआ नाहिद का कार्यक्रम शरिया कानून के खिलाफ भी था। एडीजी (स्पेशल ब्रांच) पल्लब भट्टाचार्य ने कहा कि पुलिस मामले की इस पहलू से भी जांच कर रही है कि कहीं यह फतला नाहिद के आतंकवाद और आईएसआईएस के खिलाफ गाए गाने की वजह से तो नहीं हैं। पुलिस ने कहा कि मामले की नजाकत को देखते हुए नाहिद और उनके परिवार को सुरक्षा प्रदान की जाएगी।





फतवे में कहा गया है कि अगर मस्जिद, ईदगाह, मदरसा या कब्रिस्तान के आसपास के इलाके में म्यूजिकल नाइट जैसे शरिया विरोधी काम किए जाएंगे तो हमारी भावी पीढ़ियों को अल्लाह के क्रोध सहना पढ़ेगा। विश्वनाथ चरियाली में रहने वाली युवा सिंगर को जब फतवे के बारे में पता लगा तो वह हैरान रह गई। उसने कहा कि गाना गाने की कला उन्हें ऊपर वाले से मिली है, जिसको वह कभी नहीं छोड़ेंगी। अगर इस गॉड गिफ्ट का सही इस्तेमाल नहीं करती हैं तो यह ऊपर वाले का ही अपमान होगा।

बलात्कारी गायत्री प्रजापति अखीलेश यादव के नाक के निचे से हीं हुआ गिरफ्तार .....






समाजवादी पार्टी के नेता गायत्री प्रजापति को गिरफ्तार कर 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है । उनपर बलात्कार का आरोप है। गायत्री को पुलिस ने अखिलेश यादव के पड़ोश में ही , लखनऊ से गिरफ्तार किया है। गायत्री प्रजापति पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद FIR दर्ज हुई थी। लेकिन फिर भी चुनाव प्रचार के दौरान पुलिस ने उन्हें नहीं पकड़ा था। बाद में वह लापता हो गए। 49 साल के गायत्री प्रजापति पर सामुहिक बलात्कार और यौन उत्पीड़न के आरोप है। उनपर एक महिला के सामुहिक बलात्कार और महिला की बेटी का उत्पीड़न करने का आरोप है। प्रजापति ने महिला के आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया था। उन्होंने दावा किया कि जिस महिला के आरोप पर मुकदमा दर्ज हुआ है, वह पहले भी कई लोगों पर ऐसे इल्जाम लगा चुकी है।

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :



गायत्री प्रजापति पर जमीन कब्जे, खनन घोटाला, आय से अधिक संपत्ति, बलात्कार और मारपीट के कई आरोप लग चुके हैं। इन्हीं आरोपों की वजह से वे मंत्रिमंडल से बर्खास्त किए गए थे लेकिन मुलायम सिंह यादव के दबाव में अखिलेश को प्रजापति को वापस लाना पड़ा। इसके बाद सपा-कांग्रेस गठबंधन के बाद अमेठी से टिकट पाने में भी गायत्री कामयाब रहे। गायत्री प्रजापति इस बार विधानसभा का चुनाव हार गए।





चुनाव आयोग में दाखिल किए गए हलफनामे के मुताबिक, गायत्री पिछले पांच सालों में छह गुना ज्यादा अमीर हो गए। गायत्री के पास कुल 10.02 करोड़ रुपए की चल-अचल संपत्ति है। जिसमें से 6.89 करोड़ उनके और 3.13 करोड़ पत्नी के नाम पर है। उनकी दौलत में पूरे छह गुना की बढ़ोतरी हुई है। 2012 में दाखिल किए गए हलफनामे के मुताबिक तब उनके पास 1.72 करोड़ रुपए की संपत्ति थी।

पाक में भी भगवा झोंका , दूसरे धर्मों के पूजा स्थलों पर हमला और जबरन धर्मांतरण इस्लाम में अपराध : नवाज शरीफ






पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने मंगलवार को होली पर आयोजित एक समारोह के दौरान कहा कि जबरन धर्मांतरण और दूसरे धर्मों के पूजा स्थलों पर हमला करना इस्लाम में अपराध है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान किसी भी धर्म के खिलाफ नहीं है और यहां धर्म को लेकर कोई युद्ध भी नहीं है। समारोह में शरीफ ने कहा, कौन स्वर्ग जाएगा और कौन नर्क यह किसी का काम नहीं है, लेकिन पाकिस्तान को स्वर्ग बनाना मुख्य काम है। पाकिस्तान में रह रहे अल्पसंख्यकों को दिए संदेश में शरीफ ने कहा कि कोई किसी दूसरे को एक खास धर्म अपनाने के लिए बाध्य नहीं कर सकता। इस्लाम में हर शख्स को धर्म, जाति या संप्रदाय का भेदभाव किए महत्व दिया गया है और मैं यह साफ तौर पर कहता हूं कि किसी का जबरन धर्म परिवर्तन कराना इस्लाम में अपराध है और यह हमारा फर्ज है कि पाकिस्तान में रह रहे अल्पसंख्यकों के धार्मिक स्थलों की सुरक्षा करें। पाकिस्तान में हिंदू मंदिरों पर हमले और हिंदू महिलाओं के जबरन धर्मांतरण की कई घटनाएं होती रही हैं। ऐसे में पाकिस्तानी प्रधानमंत्री का यह बयान काफी अहम है।

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :



इस समारोह में हिंदू समुदाय के कई बड़े नेता और अल्पसंख्यक सांसद मौजूद थे। शरीफ ने कहा कि पाकिस्तान में लड़ाई आतंकियों और उन लोगों के बीच थी जो देश को विकास करने देखना चाहते थे। उन्होंने कहा, पाकिस्तान में धर्म को लेकर कोई लड़ाई नहीं है। अगर है तो वह आतंकवादियों, धर्म के नाम पर लोगों को गुमराह करने वालों, बेगुनाह लोगों को मारने वालों और देश का विकास न चाहने वालों के खिलाफ है।





शरीफ ने माना कि कुछ लोगों ने धर्म के आधार पर लोगों को बांटने की कोशिश जरूर की है, पर पाकिस्तान में हर इंसान को अपना धर्म मानने की छूट है। उन्होंने कहा, पाकिस्तान इसलिए अस्तित्व में नहीं आया कि वह किसी धर्म के खिलाफ था। पाकिस्तान में किसी धर्म को छोटा या कम समझना गलत है। मैं ऐसा पाकिस्तान चाहता हूं जहां हर धर्म के लोगों के लिए समान अवसर हों और वे खुद को और अपने परिवार को एक अच्छी जिंदगी दे सकें। पाकिस्तान में सभी के लिए शांति और सुरक्षा हो।

Friday, 10 March 2017

आतंकी के दवाव में कांग्रेस और कांग्रेस के दवाब में मौलाना पहुंचा लखनऊ में मारा गया आतंकी के पिता को प्रसाशन के खिलाफ भड़काने , देखिये विडियो





लखनऊ में मारा गया ISIS आतंकी के पक्ष में खड़ी कांग्रेस पार्टी के सह पर मौलानाओं द्वारा दवाव बनाने का सिलशिला जारी है , कभी भी दवाव में आकर अपने बयान से पलट सकते हैं उसके पिता .

ज्ञात हो आतंकी के पिता का बयान आया था , की जो बेटा अपने देश का ना हो सका वो मेरा बेटा कैसे हो सकता है . लेकिन इस बयान के बाद पाकिस्तान से प्यार करने वाले कई सेकुलर जमात और मुख्य रूप से कांग्रेस पार्टी और उनके समर्थकों द्वारा इसे आतंकवादी कहने पर पहले दिन से ही अप्पति थी , जिसके बाद से ही उसके पिता पर प्रसाशन के खिलाफ बयान देने का दवाब बनाने का शिलशिला चल रहा है .





आखिर कांग्रेस पर इतना दवाव आतंकी संगठन कैसे बना चुकी है की प्रमाण मिलने के बावजूद विवश होकर आतंकीयों के साथ खड़ी रहने को मजबूर है ..?

इसकी बानगी आपको इस विडियो के जरिये हम दिखाने की कोशिश कर रहें हैं :

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :



Thursday, 9 March 2017

एग्जिट पोल गलत UP जीत रहें हैं हम , 11 को बात करेंगे हम , जनता पुच रही है 11 को सुबह में , दोपहर में या शाम में ?






पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों पर आए एग्जिट पोल पर शुक्रवार को कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने उत्तर प्रदेश में अपनी जीत का दावा किया है.  राहुल बोले- यूपी में हम जीतेंगे और 11 मार्च को बात करेंगे. बिहार में भी एग्जिट पोल गलत साबित हुए थे. हालांकि उन्होंने एग्जिट पोल पर बोलने से इनकार किया है.

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :



जनता के रियेक्सन भी आने शुरू हो गए हैं , जनता शोसल साईट के जरिये कह रही है "पप्पू सुबह-सुबह 2 पैग लगा लिए क्या ? , UP नहीं पंजाब जीत रहे हो आप .





गौरतलब है कि गुरुवार को आए एग्जिट पोल में लगभग सभी चैनलों ने बीजेपी को बढ़त दिखाई है. बीजेपी पांच में से तीन राज्यों में सरकार बना सकती है. इंडिया टुडे-एक्सिस माइ इंडिया एग्जिट पोल में बीजेपी को 251 से 279 सीट मिलने का अनुमान जताया गया है. सपा-कांग्रेस को 88 से 112 और बीएसपी को 28 से 42 सीटों के संकेत हैं. हम डालते हैं उन नतीजों पर नजर जिन्होंने यूपी में बीजेपी को बाजीगर साबित किया. हालांकि एग्जिट पोल के मुताबिक कांग्रेस पंजाब और मणिपुर में सत्ता में आ सकती है.

मुस्लिमों द्वारा होली महोत्सव के नाम पर पुरे भारत में अलग-अलग जगहों पर माहौल खराब करने की तैयारी , डिजिटल मीडिया भी देगी जेहादियों का साथ






होली महोत्सव के नाम पर देश के कई छोटे-बड़े शहरों में मुस्लिमोंके द्वारा  प्रोग्राम ओर्गेनाईज कराया जा रहा है , जिसका प्रचार प्रसार भी जन कर कराया गया है या कराया जा रहा है .

ऐसे प्रोग्राम ओर्गेनाईज करना तो अच्छी बात होती है लेकिन , इनमें जो हिन्दू मुस्लिम की दुर्भावनाएं पायी जा रही है ये देश के लिए खतरनाक है .


"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :



क्योंकि जो प्रचार-प्रसार किया और कराया जा रहा है , उनमें कहा जा रहा है गर्ल्स एंट्री फ्री होगी और पहला 10 या 20 कपल फ्री होंगे उसके बाद के 5 कपल आधे पेमेंट देने होगे . ऐसे प्रलोभन देकर खाश कर गर्ल्स फ्री एंट्री पर विवाद पैदा हो गया है .

आखिर इसके पीछे की शाजिश क्या है , तो हमने इसकी एक जांच-परताल किया .

उनके दिए गए नम्बर पर कॉल कर के हमने इसकी तहकीकात की .

प्रश्न : हमने जब उनसे पूछा मैं मुसलमान इस प्रोग्राम में आ सकता हूँ ?
जवाव : उनका जवाब था भाई जान ये प्रोग्राम ही आपके लिए है . जरुर आइये .

प्रश्न : इसमें क्या-क्या व्यवस्था होगी ?
जवाब : भाई जान जो आप चाहते हो ,  सभी व्यवस्थाएं होंगी .

प्रश्न : फिर भी , कुछ तो हिंट कर दो ..
जवाब : रंग , गुलाल , DJ , कवाब - सवाब सब होगा , आप चिंता ना करें .

प्रश्न : एक्चुअली चाहिए तो सवाब ही है , लेकिन कोई दिक्कत तो नहीं होगी ना और इतना कैसे सम्भव ?
जवाब :  बहुत मुर्गियां आ चुकी हैं  , आखिर एंट्री फ्री क्यों रखा है हमने ?






अब आप इनके मंसुबें को समझ सकतें हैं , अतः अखंड भारत टाइम्स परिवार आपसे निवेदन करता है , की कहीं भी ऐसे प्रोग्राम ओर्गेनाईज किया जा रहा हो तो इससे दुरी बना कर रहें , और लोगों को जागरूक भी करें . ऐसे किसी भी प्रोग्राम से बचें , खाश कर लडकियों को ऐसे प्रोग्राम से बचना और बचाना चाहिए , क्योकिं इनके सॉफ्ट टारगेट ही हिन्दू युवतियाँ होती हैं .

अगर एक्सिट पोल सही तो मोदी ने हिंदुत्व का परचम लहरा दिया : सुब्रमण्‍यम स्‍वामी






पांच राज्‍यों के विधानासभा चुनाव के एग्जिट पोल्‍स आते ही नेताओं की प्रतिक्रिया आनी शुरू हो गई है। चार राज्‍यों में बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है।  बीजेपी नेता सुब्रमण्‍यम स्‍वामी ने ट्वीट कर कहा है कि ‘अगर एग्जिट पोल सहीं तो इसका मतलब है कि पांच में से चार राज्‍यों में हिंदुत्‍व के साथ नमो ने बीजेपी का काम कर दिया है।’ यूपी के एग्जिट पोल पर कांग्रेस नेता संजय झा ने कहा, ‘शुरू-शुरू के दौर में नतीजे हमारे पक्ष में आएंगे, पश्चिम यूपी में एग्जिट पोल के आंकड़ों पर आश्चर्य है।’

यूपी में टाइम्‍स नाऊ-वीएमआर ने बीजेपी को बीजेपी को 190-210 सीटें मिलने की संभावना जताई है। वहीं सीएनएन-न्‍यूज 18-एमआरसी के अनुसार, यूपी में बीजेपी गठबंधन को 185 सीटें मिलेंगी। समाजवादी पार्टी-कांग्रेस गठबंधन को टाइम्‍स नाऊ ने 110-130 सीटें मिलने का अनुमान लगाया है। वहीं सीएनएन-न्‍यूज 18-एमआरसी  ने सपा-कांग्रेस को 120 सीटे मिलने की भविष्‍यवाणी की है।

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :



पंजाब विधानसभा चुनाव 2017 के एग्जिट पोल के नतीजे बड़े उलट-फेर के संकेत दे रहे हैं। इंडिया टुडे-एक्सिस माई इंडिया के एग्जिट पोल के मुताबिक राज्य में फिर से कांग्रेस के कैप्टन अमरिंदर सिंह सरकार बनाते दिख रहे हैं। एग्जिट पोल के मुताबिक 62 से 71 सीटें जीतकर कांग्रेस बहुमत का आंकड़ा आसानी से पार करती नजर आ रही है। इंडिया टीवी- सी वोटर के एग्जिट पोल के मुताबिक 117 सीट वाली पंजाब विधानसभा में आप को 63 सीटों के साथ बहुमत मिलने की बात कही गई है और कांग्रेस को 45 सीटों के साथ दूसरे नंबर की पार्टी बताया गया है।

उत्‍तराखंड विधानसभा चुनाव के एग्जिट पोल में  बीजेपी की सरकार बनती नजर आ रही है। समाचार चैनल न्यूज 24 (टुडेज चाणक्य) के सर्वे के अनुसार कुल 70 विधानसभा सीटों में बीजेपी को 53 सीटें, कांग्रेस को 15 से अधिक सीटें मिल सकती है। इंडिया टुडे और एक्सिस माइ इंडिया के एग्जिट पोल के अनुसार भी प्रदेश में बीजेपी की सरकार बनती नजर आ रही है। इस सर्वे के अनुसार बीजेपी को 46-53 सीटें, कांग्रेस को 12-21 सीटें, बीएसपी को 1-2 सीट और अन्य 1 से 4 सीटें मिलने का अनुमान है।





इंडिया टीवी- सी वोटर के एग्जिट पोल के अनुसार गोवा में किसी भी दल को बहुमत नहीं मिलेगा। राज्य की 4 सीटों में से 15-21 पर भारतीय जनता पार्टी को जीत मिलेगी। वहीं कांग्रेस को 12-18 सीटों पर विजय मिल सकती है। वहीं आम आदमी पार्टी (आप)  0-4 सीटें मिल सकती हैं। इंडिया टुडे के अनुसार राज्य में कांग्रेस को 10, भाजपा को 15 और आप को सात सीटें मिल सकती हैं। एमआरसी और न्यूज एक्स के सर्वे के अनुसार गोवा में भाजपा को 15, कांग्रेक को 10 और अन्य को आठ सीटें मिलेंगी।

Video's :

Loading...
 
Copyright © 2014 Akhand Bharat Times | Hindi News Portal | Latest News in Hindi : हिंदी न्यूज़ . Concept By mithilesh2020 | Designed by OddThemes & Customised By News Portal Solution