BREAKING NEWS

Wednesday, 25 February 2015

भगवद्गीता को पाठ्यक्रम में शामिल करना चाहती है हरियाणा सरकार

साल की शुरुआत में हरियाणा में बीजेपी सरकार ने स्कूल और कॉलेजों में भगवद्गीता को पढ़ाए जाने की वकालत की थी. सरकार अपनी इस योजना को नए अकेडमिक सेशन के शुरू होने से पहले लागू करना चाहती है. इसके लिए सरकार ने SCERT ( स्टेट काउंसिल ऑफ एजुकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग ) से भगवद्गीता के उन श्लोकों को बताने के लिए कहा है जिन्हें वो पाठ्यक्रम में शामिल करना चाहते हैं.
उच्च शिक्षा के डायरेक्टर जनरल टीसी गुप्ता ने बताया कि हमने SCERT को ये प्रपोजल रेफर कर दिया है और अब ये उनके ऊपर है कि वो किस क्लास से गीता को पाठ्यक्रम में शामिल करना चाहते हैं. सूत्रों के मुताबिक शिक्षा विभाग का कहना है कि संस्कृत भाषा स्कूली बच्चों के लिए आसान हीं है तो ऐसे में SCERT को इसके लिए विकल्प तलाशने के लिए कहा गया है. जिसमें संभवत: श्लोकों के हिंदी और अंग्रेजी भाषा में अनुवाद पर विचार किया जा रहा है. टीसी गुप्ता के मुताबिक आखिरी निर्णय एजुकेशनल कंसलटेटिव कमेटी पर होगा वो जो चाहते वहीं होगा.
SCERT के जरिए दिए जाने वाले सुझाव, एजुकेशनल कंसलटेटिव कमेटी को रेफर किए जाएंगे ताकि वो इस योजना को अमलीजामा पहना सके. एजुकेशनल कंसलटेटिव कमेटी के अध्यक्ष पूर्व स्कूल टीचर और एजुकेशन एक्टिविस्ट दिना नाथ बत्रा है. अभी हाल ही में हरियाणा के शिक्षा मंत्री ने इस कमेटी का स्थापना की है. श्िाक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा के मुताबिक गीता को पाठ्यक्रम में शामिल करने के लिए हमने तैयारी कर ली है और अभी तक इस बारे में कोई विरोध नहीं हुआ है और अगर कोई विरोध होता भी है तो हमारे पास बचाव के लिए मजबूत दलीलें है.
हरियाणा सरकार गीता को नए अकेडमिक सेशन की शुरुआत से पहले ही पाठ्यक्रम में शामिल करना चाहती है. साथ ही राज्य में संस्कृत भाषा के प्रचार-प्रसार के लिए वो दो नए कोर्स ओरिएंटल ट्रेनिंग और शास्त्री लाने के बारे में विचार कर रही है. इस योजना के लिए एक हजार नए संस्कृत टीचरों की भर्ती करने जा रही है.
....................................................................................._____________ श्रोत : आज तक

Share this:

Post a Comment

 
Copyright © 2014 Akhand Bharat Times | Hindi News Portal | Latest News in Hindi : हिंदी न्यूज़ . Designed by OddThemes & Customised By News Portal Solution