BREAKING NEWS

Thursday, 12 May 2016

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर की रिहाई का रास्ता हुआ साफ़। माले गांव ब्लास्ट केस में NIA की चार्ज शीट में साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के खिलाफ कोई सबूत नहीं ...

नई दिल्ली: वर्ष 2008 मालेगांव धमाकों के मामले में आरोपी साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को क्लीनचिट मिल सकती है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक नेशनल इंवेस्‍टीगेशन एजेंसी (एनआईए) की तरफ से शुक्रवार को मुंबई की अदालत में दायर की जाने वाली चार्जशीट में साध्‍वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर का नाम आरोपियों में शामिल नहीं करने का फैसला किया है। अगर प्रज्ञा सिंह ठाकुर का नाम आरोपियों में शामिल नहीं होगा तो वे जल्‍द ही जेल से बाहर आ सकती हैं।

बताया जा रहा है कि दायर की जानेवाली चार्जशीट में महाराष्‍ट्र के पूर्व एटीएस चीफ हेमंत करकरे की ओर से की गई जांच के बाद इस मामले के एक अन्‍य आरोपी कर्नल पुरो‍हित के खिलाफ पेश किए गए सबूत मनगढंत और गलत थे। गौर हो कि हेमंत करकरे 26/11 मुंबई हमलों में शहीद हुए थे।
रिपोर्ट के मुताबिक एनआईए साध्वी प्रज्ञा से मकोका हटाने की अर्जी देगी। साथ ही एनआईए इस मामले में दूसरे तीन आरोपियों को भी क्लीनचिट की तैयारी देने की तैयारी में है जिनमें कर्नल पुरोहित का भी नाम शामिल हो सकता है। बताया जा रहा है कि कर्नल पुरोहित से भी मकोका हटाया जा सकता है।
गौरतलब है कि मालेगांव धमाकों में चार लोगों की मौत हुई थी और 79 लोग घायल हुए थे। सूत्रों के मुताबिक साध्‍वी प्रज्ञा के खिलाफ कमजोर सबूत हैं लिहाजा उनका नाम चार्जशीट से हटाया जा सकता है। एनआईए ने इस मामले की जांच तीन साल पहले महाराष्‍ट्र एटीएस से ली थी। महाराष्‍ट्र एटीएस ने चार्जशीट भी फाइल कर दी थी। एनआईए ने सभी आरोपियों, गवाहों और सबूतों की दोबारा जांच की और कई लोगों के नए सिरे से बयान भी दर्ज किए गए।

Share this:

Post a Comment

 
Copyright © 2014 Akhand Bharat Times | Hindi News Portal | Latest News in Hindi : हिंदी न्यूज़ . Designed by OddThemes & Customised By News Portal Solution