BREAKING NEWS

Saturday, 24 September 2016

ऊरी हमले का सम्बन्ध एक पत्रकार से : एक बहुत ही चोंका देने वाली बात सामने आ रही है जो आपके होश उड़ा देने के लिए काफ़ी होगी ।

Media & Terror Relation
एक बहुत ही चोंका देने वाली बात सामने आ रही है जो आपके होश उड़ा देने के लिए काफ़ी होगी । ये ख़बर उरी अटैक को लेकर सामने आ रही है ।

और ईसमे बड़ी बात ये है कि ये ख़बर पत्रकार राणा अयूब , ISIS और उरी अटैक तीनों से जुड़ी हुई है पहले हम राणा अयूब के एक ट्वीट का ज़िक्र करना चाहेंगे जब मुंबई हमले में २५७ लोगों की हत्या के दोषी याकूब मेनन को फाँसी की सज़ा हुई थी तो राणा अयूब ने एक ऐसा ट्वीट किया था जो किसी भी मायने में जागरूक भारतीय तो बिलकुल नहीं कर सकता था ।पर उन्होंने याकूब का खुले आम पक्ष लिया था ।।पढ़ें वो ट्वीट ।।

ईस ऊपर दिए गये ट्वीट में आप साफ़ साफ़ देख सकते हैं कि राणा अयूब याकूब के समर्थन में तर्क पेश कर रही हैं कि याकूब को फाँसी पर क्यूँ नहीं चढ़ाया जाना चाहिए था यानी ईन मोहतर्मा का बड़ा दुःख था याकूब के फाँसी पर चढ़ने का और वे यही चाहती थी कि किसी तरह उसको बचा लिया जाए ।

राणा अयूब ने जो बात कही वो भी एक घटिया तर्क के अलावा कुछ नहीं थी । सूत्रों के अनुसार भारतीय ख़ुफ़िया एजेन्सी RAW ने याकूब को ये कहकर बुलाया था कि तुम्हें फाँसी पर नहीं चढ़ाया जाएगा । पहली बात तो ये कि ईस बात के कोई पुख़्ता सबूत ही नहीं हैं कि याकूब के साथ RAW की क्या बात हुई थी और यदि एक बार मांन भी लें कि RAW ने याकूब को ऐसा कुछ कहा था तो भी क्या फ़र्क़ पड़ता है ?

एक देश को ऐसी अनेकों कूटनीति खेलनी पड़ती हैं तो क्या ईस्का मतलब देश के लोग एक आतंकी के लिए अपने ही देश की ख़ुफ़िया एजेन्सी पर सवाल उठा देंगे ?

आख़िर राणा अयूब जैसे लोगों की आतंकियों से इतनी हमदर्दी क्यूँ है ??? ईस सवाल का जवाब ढूँडने के लिए अब आपको वर्तमान में आना पड़ेगा जिस घटना का ज़िक्र हम अब कर रहे हैं । अब आप ये नीचे दिया गया ट्वीट देखिए ।

ईस ऊपर दिए गये ट्वीट में साफ़ साफ़ ये दिखता है राणा अयूब को राणा वलीद ने ईद के बारे में ट्वीट किया था कि ईद 5 - 6 दिन के बाद है उस ट्वीट पर डॉक्टर गौरव प्रधान ने उस समय सवाल भी उठाया था कि एक संदिग्ध व्यक्ति जिसको कथित तौर पर ISIS से जुदा बताया जाता है उसने राणा अयूब को ऐसा सामान्य ट्वीट क्यूँ किया या उस ट्वीट के कोई अलग मायने थे ?क्यूँकि जैसा कि डॉक्टर गौरव प्रधान भी कह रहें हैं कि ईद का सबको पता है फिर ये ट्वीट क्यूँ ???

अब जो सवाल खड़े होते हैं उन पर ज़रा ग़ौर फ़रमाईए
१- क्या उस कथित तौर पर ISIS के आदमी के सामान्य ट्वीट का मतलब था ‘ असली ईद तो ईद के 5-6 दिन बाद होगी ”

२- क्या ये ट्वीट कोड वर्ड में था यदि हाँ तो क्या ये उरी अटैक के बारे में था ????

३- क्या राणा अयूब के ISIS के साथ सम्बंध हैं ?

४- क्या ईस मामले की कड़ाई से जाँच नहीं होनी चाहिए ???

हम नहीं जानते सच क्या है पर जैसा कि राणा अयूब को ट्वीट करने वाले व्यक्ति के बारे में डॉक्टर गौरव प्रधान ने साफ़ कहा है कि वो ISIS का आदमी है तो ईस मामले को बिना जाँच किए छोड़ देना देश की सुरक्षा के लिए ठीक नहीं होगा ।
.................................................................................................................. संजय द्विवेदी

Share this:

Post a Comment

 
Copyright © 2014 Akhand Bharat Times | Hindi News Portal | Latest News in Hindi : हिंदी न्यूज़ . Designed by OddThemes & Customised By News Portal Solution