BREAKING NEWS

Friday, 9 September 2016

शहाबुद्दीन 11 साल बाद जेल से रिहा , 'लालू यादव ही मेरे नेता है। नीतीश कुमार परिस्थितियों के मुख्‍यमंत्री हैं : शहाबुद्दीन

सीवान के बाहुबली पूर्व सांसद शहाबुद्दीन भागलपुर के विशेष केंद्रीय कारागार से आज सुबह जमानत पर रिहा हो गया। सीवान के चर्चित तेजाब कांड में हाईकोर्ट से जमानत मिलने के बाद वह 11 साल बाद रिहा हुआ। जेल से रिहा होते ही शहाबुद्दीन ने कहा, लालू ही मेरे नेता हैं।
भागलपुर के विशेष केंद्रीय कारागार के बाहर आज सुबह से ही शहाबुद्दीन के समर्थकों का हूजूम लगा रहा। जैसे ही शहाबुद्दीन जेल से बाहर आया उसके समर्थक नारेबाजी करने लगे। पूर्व सांसद के समर्थक 1500 गाड़ियों के काफिले के साथ वहां पहुंचे थे। भागलपुर से शहाबुद्दीन सीवान जाएंगे।
लालू ही मेरे नेता
जेल से रिहा होते ही शहाबुद्दीन ने कहा कि लालू यादव ही उसके नेता हैं। मैंने कभी भी बैकडोर पॉलिटिक्स नहीं की है। मैं 13 साल बाद अपने गांव जा रहा हूं।
नीतीश को बताया परिस्थिति का सीएम
जेल भेजने के पीछे नीतीश सरकार के हाथ के सवाल पर शहाबुद्दीन ने कहा कि नीतीश कुमार परिस्थितिवश सीएम बने हैं । सभी जानते हैं कि मुझे फंसाया गया है। मैं दस साल तक किसी के संपर्क में नहीं था। एक अन्य सवाल के जवाब में शहाबुद्दीन ने कहा कि सीवान में 22 लाख लोग रहते हैं। एक व्यक्ति क्या कह रहा है इसका कोई मतलब नहीं है। बहुमत क्या की राय है ये देखिए।
भाजपा पर साधा निशाना
भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी पर पूछे एक सवाल के जवाब में बाहूबली नेता व पूर्व सांसद ने कहा कि उन्हें कोई गंभीरता से नहीं लेता। मैंने कभी भी उन्हें गंभीरता से नहीं लिया।
लालू ने ही शहाबुद्दीन को जेल भेजा
शहाबुद्दीन के जेल से रिहा होने पर जन अधिकार पार्टी के सुप्रीमो व मधेपुरा से सांसद पप्पू यादव ने कहा कि लालू यादव ने ही उन्हें जेल भेजा था। वे किसी के नेता नहीं। एक अन्य सवाल के जवाब में पप्पू यादव ने कहा कि मैं नीतीश कुमार पर कोई प्रश्न चिह्न नहीं लगाना चाहता। वे वैचारिक नेता हैं।
सीवान में चौकसी बढ़ी
सीवान प्रशासन ने शहाबुद्दीन के जेल से बाहर आने की खबर मिलते ही जिले में चौकसी बढ़ा दी है। चौक-चौराहों पर पर अतिरिक्त बलों की तैनाती के अलावा गश्त भी तेज कर दी गई है। फिलहाल 1500 गाड़ियों का काफिल सीवान के लिए निकल चुका है।
इससे पहले, शुक्रवार को सीवान के जिला एवं सत्र न्यायाधीश को जमानत की कॉपी मिली। सीवान जेल में बने विशेष कोर्ट के न्यायाधीश ने जमानत आदेश का अवलोकन किया। उसके बाद बेल बांड भरने की प्रक्रिया अपनाई गई। पूर्व में जिन मामलों में जमानत मिली थी और जिनके बेल बांड नहीं भरे गए थे, उनके भी बेल बांड भरे गए। कोर्ट में दो-दो जमानतदार पहुंचे और कोर्ट ने शहाबुद्दीन की रिहाई का आदेश जारी कर दिया। शाम को कोर्ट से जेल प्रशासन को आदेश भेजा गया। इसके बाद सीवान जेल प्रशासन ने भागलपुर विशेष केन्द्रीय कारा अधीक्षक को आदेश की कॉपी भेजने की तैयारी शुरू की।
उधर, पूर्व सांसद के अधिवक्ता अभय कुमार राजन ने बताया कि कोर्ट में दो मामलों में बेल बांड भरे गए हैं। पहला तेजाब कांड और दूसरा बिजली से जुड़ा मामला था। दोनों कांडों में जमानत के लिए दो-दो जमानतदार कोर्ट में पेश हुए।
जुलूस की शक्ल में सीवान जाएंगे शहाबुद्दीन
विशेष केन्द्रीय कारा भागलपुर से शहाबुद्दीन की रिहाई को लेकर गुरुवार रात को ही दर्जन भर समर्थक भागलपुर पहुंच गए थे। वे शुक्रवार को जेल गेट पर पहुंचे और सीवान में हो रही कार्यवाही की मोबाइल से सूचना लेते नजर आए। शुक्रवार को रिहाई नहीं होने पर शाम को समर्थक लौट गए। अभी वे शहर के ही होटलों में ठहरे हैं। शहाबुद्दीन के एक करीबी समर्थक ने कहा कि शनिवार को रिहाई के बाद जुलूस की शक्ल में शहाबुद्दीन सीवान जाएंगे। इसमें कुछ सांसद, विधायक सहित कई जनप्रतिनिधि भी शामिल हो सकते हैं।

Share this:

Post a Comment

 
Copyright © 2014 Akhand Bharat Times | Hindi News Portal | Latest News in Hindi : हिंदी न्यूज़ . Designed by OddThemes & Customised By News Portal Solution