BREAKING NEWS

Saturday, 29 October 2016

हिजाब पहनने के लिए मजबूर करना खेल भावनाओं के खिलाफ है : हिना सिद्धू , छोड़ी ईरान में होने वाली चैम्पियनशिप .......

Game-feelings-against-forced-to-wear-hijab
जयपुर। मुस्लिम धर्म में महिलाओं को लेकर प्रचलित विवादास्पद कायदे-कानून अब खेल भावनाओं को भी प्रभावित करने लगे हैं। यही वजह है कि भारत में तीन तलाक के विरोध में महिलाएं आंदोलन की राह पकड़ रही हैं, वहीं महिला खिलाड़ी एेसे मामलों को लेकर अंतरराष्ट्रीय स्तर के आयोजनों का बहिष्कार भी कर रही हैं।

एेसा ही एक मामला ईरान में दिसंबर में होने वाली एशियन एयरगन शूटिंग चैंपियनशिप के मामले में सामने आया है। भारतीय शूटर हिना सिद्धू ने पर्दा प्रथा जैसी कुप्रथा की तरह ही हिजाब प्रथा के प्रचलन के विरोध में इस चैंपियनशिप का बहिष्कार करने का एलान किया है।

शूटर हिना सिद्धू का कहना है कि वो ईरान में होने वाली शूटिंग चैंपियनशिप में हिस्सा नहीं लेंगी। उन्होंने ईरान में महिलाओं के लिए हिजाब पहनने के जरूरी नियम की वजह से यह कदम उठाया है।ईरान की राजधानी तेहरान में दिसंबर में एशियन एयरगन शूटिंग चैंपियनशिप होनी है।

हिना ने एक साक्षात्कार में कहा है कि टूरिस्ट अथवा विदेशी मेहमानों को हिजाब पहनने के लिए मजबूर करना खेल भावनाओं के खिलाफ है। मुझे यह मंजूर नहीं है, इसलिए मैंने चैंपियनशिप से अपना नाम वापस ले लिया। हिना ने इसे पूरी तरह से निजी पसंद का मामला बताया है।

आपको बता दें कि भारत से अन्य शूटर इस चैंपियनशिप में हिस्सा ले रहे हैं। पिस्टल शूटर हिना ने कहा, आप अपने धर्म का पालन कीजिए, मुझे मेरा धर्म मानने दीजिए। अगर आप अपनी धार्मिक मान्यताओं को मुझे मानने के लिए विवश करेंगे तो मैं इस प्रतियोगिता में भाग नहीं लूंगी।

3 से 9 दिसंबर के बीच होने वाली इस प्रतियोगिता के आयोजकों ने अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर साफ तौर पर लिखा है, शूटिंग रेंज और सार्वजनिक स्थानों पर महिलाओं के कपड़े इस्लामिक रिपब्लिक ऑफ ईरान के नियम-कायदों के तहत होने चाहिए।

Share this:

Post a Comment

 
Copyright © 2014 Akhand Bharat Times | Hindi News Portal | Latest News in Hindi : हिंदी न्यूज़ . Designed by OddThemes & Customised By News Portal Solution