BREAKING NEWS

Wednesday, 26 October 2016

मुलायम सिंह यादव की रासलीला : आपको यहाँ जवाब मिल जाएगा आखिर बलात्कार जैसे अतिस्म्वेदंशील मुद्दे पर भी मुलायम सिंह उर्फ़ वर्तमान धरती पुत्र क्यों कहतें हैं कभी-कभी गलतियां हो जाती है ....

बात तब की है मुलायम यादव की शादी हो चुकी थी, अखिलेश भी पैदा हो चूका था  , अभी  धरती पुत्र मुख्यमंत्री नहीं हुए थे । अभी चौधरी चरण सिंह के मंत्रिमंडल में वो  सिंचाई मंत्री थे ।

तभी सिचाई विभाग के एक Executive Engineer  चंद्र प्रकाश गुप्ता की बीवी और बिधूना कस्बा निवासिनी श्रीमती हेमलता गुप्ता  की पुत्री  साधना गुप्ता  मंत्री जी के पास अपने पति के तबादले हेतु गुहार ले के आयी । साधना उस समय राजनीती  भी करती थी छुटभैया  नेताओ की।

मुलायम  को इंजीनियर की बीबी भा गयी । मुलायम की पहली  देहाती बीबी ( मालती देवी ) तो गाँव में रहती थी । बस फिर क्या था पुरे उत्तरप्रदेश के वोटरों को मुर्ख बना कर अपनी ओर खींचने वाले क्या एक औरत को मुर्ख बना कर अपने जाल में नहीं फंसा सकते थे ?

सो उन ने वो इंजीनियर  की बीबी हर ली और उसे उसने लखनऊ में एक रखैल के तौर पे स्थापित कर लिया । देहाती बीबी गाँव में और रखैल नेताजी के साथ  में ।बहुत सालों तक ये किस्सा चलता रहा । फिर एक दिन  साधना के पति ने पत्नी को मुलायम के साथ पकड़ लिया ...और पत्नी को तलाक दे दिया।

सनद रहे....

मालती देवी मुलायम की पहली पत्नी थी ,एक धार्मिक महिला ,जिसने पूरे  परिवार को एक साथ बाँध कर रखा ,कभी कोई भेदभाव नहीं किया ,मुलायम जब 1973 में इंदिरा गांधी के खिलाफ आंदोलन में रत थे उसी दरम्यान 1973 में अखिलेश यादव का जन्म हुआ ,मालती देवी ने ही अखिलेश का ध्यान रखा ,पालन पोषण किया ,मुलायम के पास अपनी राजनीति चमकाने के अलावा कोई काम नहीं था । उस दौर में कदाचित ही कभी मालती देवी और मुलायम मिल पाते थे ।

वही साधना गुप्ता एक चालू  किस्म की महिला थी जिसका काम नेताओ के यहाँ दरबार लगाना ,पैरवी करना था ,साधना गुप्ता वाकई बहुत सुंदर थी और वह उसका उपयोग करना भी जानती थी । पैरवी के सिलसिले में दलाल के माध्यम से वह 1980 में मुलायम के नजदीक पहुचने में सफल रही । मुलायम ने उसे समाजवादी पार्टी में एक छोटा सा पद दे दिया ताकि मुलाकात का बहाना बना रहे , साधना गुप्ता ने अपने शरीर और सौंदर्य का इस्तेमाल रसूख बनाने ,पैरवी करने के लिए शुरू कर दिया ,कल तक सर्वसुलभ साधना अब नेता जी की स्पेशल हो चुकी  थी .


साधना गुप्ता ने अलग निवास ले लिया जहाँ दिन में पैरवी करने वाले दलालो का जमावड़ा लगता था और रात में मुलायम की रंगरेलिया चलती थी ।

इस दरम्यान साधना गुप्ता से प्रतीक  नामक एक लड़के का जन्म 1988 में हुआ ,वह किसका पुत्र है किसी को नहीं पता , लेकिन मुलायम के कथित  पुत्र प्रतीक यादव असल में चंद्रप्रकाश के ही बेटे है , ऐसा जाँच रिपोर्ट के आधार पर कहा गया गई

अधिकृत रूप से साधना और मुलायम की शादी कब हुई यह किसी को नहीं पता ,मुलायम ने इस रिश्ते को छुपाकर रखने और प्रतीक  की पहचान छुपाये रखने का भरपूर प्रयास किया परन्तु साधना गुप्ता राजनितिक सर्किल में मुलायम की रखैल के रूप अपनी पहचान बना चुकी थी इसलिए यह छुप न सका । मुलायम सार्वजानिक रूप से इस रिश्ते को स्वीकारने के लिए तैयार नहीं थे ,इसी दौर में साधना गुप्ता के यहाँ मुलायम और अमर सिंह की बैठकी लगती थी ,साधना को डर था कि कही मुलायम उसको छोड़कर किसी नई फ़िल्मी हस्ती के पल्लू में न चल जाए । साधना ने अपनी शंका अमर सिंह के सामने प्रकट की ,अमर सिंह ने वादा किया उसको हक़ दिलाने का ।

साधना गुप्ता की सामाजिक मान्यता की भी एक अंदरुनी खबर हैं  इसने बलात्कार करने के आरोप के साथ FIR की पूरी तैयारी कर ली थी  और धमकी भी कि DNA टेस्ट में प्रतीक तुम्हारा लड़का  ही निकलेगा जैसा ND तिवारी मामले में हुआ था ।  और    दुर्भाग्यवश मालती देवी का निधन 2003 में हो गया ,मुलायम निजी जिंदगी में अकेले हो गए।

सो फजीहत और बदनामी से बचने के लिए समाज में प्रतिष्ठित कर दिया गया और   अमर सिंह ने दोनों को पति पत्नी की तरह साथ रहने के लिए तैयार कर लिया ,मुलायम को भी साथ चाहिए था दोनों खुलेआम पति पत्नी की तरह रहने लगे । बाद में 2007 में अमर सिंह के समझाने बुझाने पर मुलायम ने सार्वजनिक रूप से साधना को पत्नी स्वीकार कर के पारिवारिक मान्यता प्रदान कर दी।
खैर...

मुलायम सिंह यादव  बहुत अत्याचारी रहा है उसने अपनी पहली बीबी के रहते ही नयी वाली से एक लड़का  पैदा कर दिया था .... मुलायम   की पहली पत्नी की मौत हुयी 2003 में और इससे पहले 1988 में मुलायम  नयी वाली बीबी से लड़का  पैदा हो चुका था .


सोचिये कैसे दुःख में घुट घुट के मरी थी मुलायम   की पहली पत्नी  ?? पति सेवा का कितना वेहतरीन तोहफा मिला पहली पत्नी को ...??.....सोचिये पहली पत्नी ने अपने जीवन के अंतिम 17 वर्ष किस दर्द और घुटन के साथ बिताये होंगे ......उफ्फ्फ।

इस कहानी में कितनी बातें है ? मुल्लायम ने अपनी पत्नी को धोखा दिया, किसी दूसरे इंसान को जिंदगी भर उसकी पत्नी से दूर कर दिया और बेचारे चंद्रप्रकाश का बच्चा भी छीन लिया। ये भी हो सकता है कि दूसरी शादी के लिए इस्लाम कबूल किया हो।

शायद यही कारण रहे हों की मुलायम सिंह को कहना पड़ा कभी कभी गलतियाँ हो जाती है ........

Share this:

Post a Comment

 
Copyright © 2014 Akhand Bharat Times | Hindi News Portal | Latest News in Hindi : हिंदी न्यूज़ . Designed by OddThemes & Customised By News Portal Solution