BREAKING NEWS

Thursday, 3 November 2016

राजनीति में शीध्रपतन के दोषी हैं राहुल गांधी और केजरीवाल

सुहाग-रात को शीघ्रपतन का रोगी दूल्हा ज़ल्दी झड़ जाए तो , ताउम्र बीबी के सामने शर्मिंदगी और ज़हालत उठानी पड़ती हैं , वहिं होशियार दूल्हा फूंक फूंक के कदम रखता है , बोले तो दूध-वूध बादाम-सादाम खा के फिर मैदान-ए-जंग में उतरता है और फतह हो के आता है ।

रोहित वेमुल्ला फ़र्ज़ी दलित था : जिससे शीघ्रपतन के दूल्हों (विपक्ष और मोदी विरोधियों) ने मुद्दा बनाकर मोदी को घेरने की कोशिश की , लेकिन अंत में मुंह की खायी .......

अखलाख की हत्या के वक़्त तमाम मोदी विरोधी बिना होमवर्क के फिर एकजुट हुए और फिर से शीघ्रपतन का शिकार हुए ........

गौ मांस को बकरे का मांस बताया , खूब बढ़ा चढ़ा कर प्रेस्याओं और दलाल नेताओं ने मामले को उछाला , लेकिन अंत में मथुरा और अन्य लैब की रिपोर्ट के बाद फिर से मुंह की खायी .

हरियाणा के सनपेड़ में फ़र्ज़ी दलित की हत्या में भी मोदी विरोधी शीघ्रपतन के शिकार हुए थे  , और मामले की कलई तुरन्त खुल गयी थी .

जेएनयू में देश विरोधी नारों और गतिविधियों के समय फरवरी में सबसे पहले राहुल गांधी और केजरीवाल ने वहां का रुख किया , नतीजा वो ही ढाक के तीन पात , फिर से शीघ्रपतन - और दुल्हन बोले तो देश की जनता के सामने झंड ........

अब शहीद फौजी रामशंकर ग्रेवाल के मामले में राहुल गांधी और केजरीवाल ने मोर्चा खोला है , बाकी समझदार और घाघ नेता (माया मुलायम नितीश लालू) जैसे अभी इस मामले से दूर है , लेकिन जो जानकारी निकल के आ रही है रामशंकर फौजी था ही नहीं जिन्हें OROP का लाभ मिलता , OROP की योग्यता 15 साल की सर्विस है जबकी रामशंकर की 6 साल की सर्विस थी , बोले तो एक वार फिर बिना होमवर्क के राहुल और केजरी मामले को लपकने दौड़ पड़े , मुंह की तो खैर पहले ही दिन खा चुके ये दोनों इस मामले में ..........
राहुल गांधी और केजरीवाल भारतीय राजनीति में शीघ्रपतन के रोगी है ......... जो अक्सर हर मामले में बिना तह तक जाए (सुहागरात) ज़ल्दी झड़ जाते है ......... और दुल्हन (जनता) के सामने बार बार शर्मिंदा और ज़लील होते है जिनका अपना कोई आत्मसम्मान नहीं ......... बेगैरत बेहया दूल्हे है दोनों !!!!

................................................................................................................................ अदिति गुप्ता

Share this:

Post a Comment

 
Copyright © 2014 Akhand Bharat Times | Hindi News Portal | Latest News in Hindi : हिंदी न्यूज़ . Designed by OddThemes & Customised By News Portal Solution