BREAKING NEWS

Thursday, 17 November 2016

चाइना लुट गए तेरे प्यार में , चीन के हाथो बिक गया पाकिस्तान , आने वाले हैं बुरे दिन : पाक सांसद

नई दिल्ली (18 नवंबर): पाकिस्तान हरे चश्मे पर चढा चीन का लाल रंग अब उतरने लगा है। पाक को अहसास हो गया है कि चीन अपने आर्थिक हित और 51 बिलियन डॉलर को बचाने के लिए सीपेक का इस्तेमाल भारत से व्यापार बढ़ाने के लिए कर सकता है। चीन की इस चाल से पाकिस्तान सरकार अब खुद को ठगा सा महसूस कर रही है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, प्‍लानिंग और डिवेलपमेंट पर सेनेट की स्‍थायी समिति की एक बैठक के दौरान इन सांसदों ने चीन की चाल पर चिंता जाहिर की है। इन सांसदों ने कहा कि चीन संभवत: इस इकनॉमिक कॉरिडोर योजना में इसलिए निवेश कर रहा है ताकि वह भारत सहित सेंट्रल एशिया और यूरोप के दूसरे देशों के साथ व्‍यापार संबंधी संभावनाएं तलाश सके। समिति के चैयरमैन सैयद ताहिर हुसैन ने भी इस बारे में एक सांसद की राय का समर्थन किया। राय यह थी कि सीपीईसी के तहत मुनाबो और अमृतसर के रास्‍ते भारत के साथ रेल और रोड लिंक में सुधार होने के बाद चीन अपने व्‍यापार का विस्‍तार न सिर्फ सेंट्रल एशियाई और यूरोपीय देशों बल्कि भारत तक करेगा।

ऐसा कर चीन अपने आठ कम विकसित प्रांतों की स्थिति में सुधार लाने की कोशिश करेगा। सैयद ताहिर ने कहा, 'चीन निश्चित तौर पर सीपीईसी का इस्‍तेमाल भारत के साथ व्‍यापार बढ़ाने के लिए करेगा। ऐसा इसलिए कि जो भी निवेश करता है, वह सबसे पहला अपना हित देखता है।' उन्‍होंने कहा कि चीन का पाकिस्‍तान के मुकाबले भारत के साथ व्‍यापार काफी बड़ा है और पिछले साल उसने भारत के साथ 100 अरब डॉलर का एक ट्रेड अग्रीमेंट भी साइन किया है। ताहिर ने कहा, 'भारत और पाकिस्‍तान के बीच तनावपूर्ण रिश्‍ते होने के बावजूद चीन सीपीईसी के जरिए भारत के साथ व्‍यापार करेगा।'

Share this:

Post a Comment

 
Copyright © 2014 Akhand Bharat Times | Hindi News Portal | Latest News in Hindi : हिंदी न्यूज़ . Designed by OddThemes & Customised By News Portal Solution