BREAKING NEWS

Sunday, 18 December 2016

पश्चिम बंगाल दंगा : ममता बानों की ममता सिर्फ मुसलमानों के लिए , तो क्या हिन्दुओं को बंगाल छोर देना चाहिए ?

Communal-riots-in-west-bengal

वैसे तो आए दिन पश्चिम बंगाल से दंगे भड़कने और कट्टरवाद से जुड़ी खबरें सुनने में आती रहती हैं और बंगाल के भयावह स्थिति का खौफनाक अंदाज़ा लग जाता है। अब ताजा घटना जो सुनने में आई है वह और भी दुखी करने वाली है। खबर है कि पश्चिम बंगाल में सांप्रदायिक दंगे भड़के हुए हैं। जो वास्तव में एक बार फिर पश्चिम बंगाल सरकार के लिए एक शर्मनाक घटना बन गयी है।


ज्ञात हो की चुनाव के वक्त भी पश्चिम बंगाल में दंगे भड़के थे , और उस दंगे में सिर्फ और सिर्फ हिन्दू प्रभावित हुए थे , तब ममता बनर्जी और उनकी पार्टी ये कहते हुए RSS और बीजेपी पर इल्जाम लगाते हुए की जहाँ कहीं भी चुनाव होतें हैं बीजेपी और आरएसएस दंगे फैला कर वोट हासिल करने की प्रयास करती है । देश का दुर्भाग्य है की जब-जब भी ऐसे दंगे होतें हैं और जहाँ सिर्फ हिन्दू प्रभावित होतें हैं वहां दंगाइयों पर किसी तरह की कार्रवाही नहीं होती लेकिन जैसे हीं कहीं प्रतिक्रिया में मुस्लिम प्रभावित होतें हैं , वैसे हीं देश के तमाम नेता , तमाम राजनितिक पार्टियाँ अपनी छाती पिटने लगती हैं ।


तो ऐसी स्थिति में हिन्दुओं को क्या करना चाहिए ?



ठीक वैसे हीं , पश्चिमी कोलकाता से 28 किलोमीटर की दूरी स्थित हावड़ा जिले के धुलागढ़ में एक समुदाय विशेष द्वारा के सदस्यों द्वारा शिव मंदिर को ध्वस्त कर दिया गया है, जिसे ममता बनर्जी कि सरकार और कुछ मीडिया चैनलों द्वारा दबाने कि पूरी कोशिश कि जा रही है। धुलागढ़ दंगों के लिए कुख्यात रहा है। पिछले साल के अंत में यहां भड़की हिंसा में कई लोग घायल हो गए थे। अभी तक इलाके में तनाव का माहौल बरकरार है।

खास समुदाय बल्कि कहें तो मुसलमानों के  द्वारा अभी कुछ हफ्तों पहले ही मंदिर की मौजूदगी का विरोध किया गया था। रिपोर्ट के अनुसार, इस समुदाय को दंगे भड़काने के लिए कथित तौर पर तृणमूल कांग्रेस के स्थानीय नेता गुलशन मलिक नाम के शख्स द्वारा भड़काया जा रहा है। दो समुदायों के सदस्यों के बीच जारी इस संघर्ष में कई हिंदू गंभीर रुप से घायल हो गए हैं, जबकि उनमें से कुछ गंभीर रूप से घायल हैं।

हालांकि क्षेत्र में पुलिस कि टुकडी को तैनात किया गया है, दंगे के कारण हिंदू असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। कई गाँव और मुहल्ले से हिन्दू तो पलायन भी कर चुकें हैं । मलिक ने सभी मंदिरों और हिंदू समहटी को ध्वस्त करने का प्रयास किया जिसमें हिंदू स्वयंसेवक पनाह लिए हुए हैं। गौरतलब है कि हिंदू समहटी एक गैर राजनीतिक संस्था है। हालांकि मीडिया चैनल और ममता सरकार इस पुरे मामले पर पर्दा ड़ालने कि कोशिश कर रही है, लेकिन जी न्यूज ने इस सबके अलग होते हुए इस पर अपनी रिपोर्टिंग कि और अपने चैनल पर इस बारे में विस्तृत ख़बर दिखाया है।

Share this:

1 comment :

 
Copyright © 2014 Akhand Bharat Times | Hindi News Portal | Latest News in Hindi : हिंदी न्यूज़ . Designed by OddThemes & Customised By News Portal Solution