BREAKING NEWS

Tuesday, 13 December 2016

इमानदार क्षवी को बदनाम करने की साजिश में फंश गयी कांग्रेस और मीडिया , होगी कार्रवाही , कांग्रेस और मीडिया की रोचक साजिश पढ़िए ...


बार फिर साबित कर दिया है कि देश के बड़े चैनल और अखबारों की लगाम अब भी कांग्रेस के पास ही है। सुबह इंडियन एक्सप्रेस अखबार ने रिपोर्ट छापी कि अरुणाचल प्रदेश में चल रहे इस प्रोजेक्ट में धांधली हुई है और इसमें केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू का नाम भी घसीट लिया। अब इस मामले से जुड़े जो तथ्य सामने आ रहे हैं उनके मुताबिक पूरी कहानी ही उलटी है। प्रोजेक्ट से जुड़े सारे ठेके 2013 में कांग्रेस की सरकार के वक्त में दिए गए थे और इसमें जमकर घोटाला हुआ था। विजिलेंस ने अपनी जांच में इसी बात को रिपोर्ट किया था, लेकिन घोटाला खुले इससे पहले कांग्रेस ने इंडियन एक्सप्रेस और दूसरे अखबारों-चैनलों की मदद से पूरा मामला घुमा दिया।

साजिश के तहत छपवाई झूठी रिपोर्ट

इंडियन एक्सप्रेस के ही एक पत्रकार ने हमें बताया कि इस खबर को लेकर खिचड़ी पिछले कुछ वक्त से पक रही थी। पहली नजर में ये पूरी तरह से पिछली सरकार के करप्शन का मामला बनता था। लेकिन चूंकि इसमें किरेन रिजिजू की एक चिट्ठी का जिक्र भी था, इसलिए अखबार के संपादक के दिमाग में इस खबर को बिल्कुल नया एंगल देने का आइडिया आया। हम यहां पर आपको बता दें कि इंडियन एक्सप्रेस के संपादक राजकमल झा कांग्रेस के प्रवक्ता संजय झा के सगे भाई हैं। पूरी खबर में यह जानकारी ही गायब है कि ठेके 2013 में कांग्रेस सरकार के वक्त दिए गए थे।


लेटेस्ट हिंदी न्यूज़ से जुड़ें , अन्य अपडेट के लिए "अखंड भारत टाइम्स" के ऑफिसियल पेज को लाइक करे



तथ्य सामने आते ही खुली झूठ की पोल

खुद किरेन रिजिजू ने इस मामले से जुड़े सारे कागजात सुबह ही जारी कर दिए, ताकि सच्चाई सामने आ जाए। उन्होंने बताया कि इलाके के लोग मेरे पास पेमेंट रुके होने की शिकायती चिट्ठी लेकर आए थे, जिसे मैंने मंत्री के पास फॉरवर्ड कर दिया। लेकिन वो चिट्ठी मेरे भाई की नहीं है। हमारे इलाके में आपस में सभी हमउम्र लोग एक-दूसरे को भाई बोलते हैं। इस प्रोजेक्ट में कांग्रेस के वक्त ही कई घोटाले हुए थे। इसे पहली नज़र में 450 करोड़ का घोटाला माना जा रहा है। बहुत जल्द इसकी सीबीआई जांच के आदेश भी जारी होने की उम्मीद है।

अखबार के झूठ को कांग्रेस ने मुद्दा बनाया

इंडियन एक्सप्रेस और कांग्रेस के मिलीभगत का शक इसी बात से पैदा होता है कि इंडियन एक्सप्रेस की इस अधकचरी खबर की बिना जांच-पड़ताल के ही कांग्रेस ने इसे घोटाला-घोटाला कहना शुरू कर दिया। जबकि कागजात पर नजर डालें तो फौरन समझ में आ जाएगा कि ये घोटाला तो दरअसल कांग्रेस का ही है। उधर कांग्रेस ने इस मामले पर शर्मिंदा होने के बजाय मंत्री किरेन रिजिजू का इस्तीफा मांगना भी शुरू कर दिया। मीडिया और कांग्रेस की इस शरारतपूर्ण हरकत पर किरेन रिजिजू ने ट्वीट करके अपनी नाराजगी भी जताई है।

किरण रिजीजू ने ट्विट कर प्रस्तुत किये सबूत , निचे दिए लिंक पर क्लिक कर देखें :

https://twitter.com/KirenRijiju/status/808725383780724741


कोंग्रेस ने मुझे निशाना बना के बहुत बड़ी ग़लती की हैं। उन्हें एक सच्चे आदमी की छवि पर चोट पहुँचाने की कोशिश की भारी क़ीमत चूकानि होगी। https://twitter.com/KirenRijiju/status/808572306801000449 


Share this:

Post a Comment

 
Copyright © 2014 Akhand Bharat Times | Hindi News Portal | Latest News in Hindi : हिंदी न्यूज़ . Designed by OddThemes & Customised By News Portal Solution