BREAKING NEWS

Thursday, 21 September 2017

#Video हिन्दुओं का बस इतिहास रह जाएगा , नक्से से हिन्दुस्तान गायब : मौलवी (दरभंगा बिहार )


दरभंगा (बिहार) :
रोहिंग्या के समर्थन में मुस्लिम समुदाय के लोग निकले थे शांति रूप से प्रदर्शन करने , लेकिन पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए कह दिए ऐसी बातें , जो देश के दुश्मन करतें हैं .





जी हाँ ये युवा मौलाना कहतें हैं हिन्दुओं याद रखो , कहीं ऐसा ना हो की तुम्हारा बस इतिहास याद रखने के लिए हो जाए , इसलिए हम जैसे शांति कौम को गुस्सा मत दिलाओ वरना परिणाम में ये देश ही नक्से से मिट जाएगा .
ऐसा बयान देकर मौलाना ने स्पष्ट कर दिया हम हराम के कौम थे , और हराम के हैं और आगे भी हराम के रहेंगे .ऐसे बयानों से क्या शांति आने वाला है , या देश में आग लगाने के लिए ही हर रोज कहीं ना कही ऐसे ब्यान दियी जा रहें हैं एक रणनीति के तहत .

सच तो ये हैं कीस कौम के लोग बड़े ही चालाकी के साथ देशमें अव्यवस्था फैलाने के उद्देश्य से सुनियोजित तरीके से पहले करोडो बंग्लादेसियों को यहाँ का स्थायी प्रमाणपत्र बनवा कर यहाँ की नागरिकता दिलवाया और अब लाखों की संख्याँ में दुनिया के सबसे खतरनाक आतंकी समूहों में से एक रोहिंग्या को बसाना चाहते हैं .





इस कौम का एक ही एजेंडा हैं हिन्दुस्तान को हिन्दू मुक्त कर इस्लामिक देश बनाना , और इसके लिए दिन-रात एक कर लगे हुए हैं , और ये सब हो रहा हैं इनके द्वारा पवित्र किताब के "गजवा-ए-हिन्द" के आधार पर .

इस जाहिल कौम को कौन समझाएं ये कभी ना तो इतिहास में सम्भव हो पाया है ना आगे भी हो पायेगा , बल्कि ऐसा समय आने वाला हैं इन देश द्रोहियों के खिलाफ देश एकजुट हो रहा है और जिस दिन सब्र का बांध टुटा देश , देशद्रोहियों से मुक्ति जरुर पा लेगा .

आप देखिये विडियो क्या कहता है , ये हरामखोर मौलाना :

Share this:

1 comment :

  1. All of us may be very angry with this man, but he is saying something which will be possible in years to come, unless drastic measures are taken for preserving our civilisation, culture and religion. It has not yet an eye opener for all of us, when centuries of forced conversion resulted in in many parts of country become minority for original people become minority and in 1947 the country was divided. In spite of that we didn't learn lessons, we allowed forced conversion in many parts of country without taking strongest possible actions against these divisive forces. There was forced conversion and ethnic cleansing in Kashmir by merciless killing. We are allowing further diluting our culture and religion by accepting illegal migrants in Assam and West Bengal, further allowing ourselves to become minorities in our country. Now anti national forces are dreaming of further division of country and their numbers are multiplying in many places. Kashmir like erhnic cleansing and merciless killing may happen once our numbers goes down. The Myanmar government is aware of the mindset of divisive forces and taking strongest possible action against them. But in our country pseudo intellectuals are fighting for rights of violent and Jehadi forces and government is not capable of doing anything substantial. The dreaming of fanatics forces for further division is not unrealistic unless government takes toughest measures possible to curb those violent and Jehadi forces

    ReplyDelete

 
Copyright © 2014 Akhand Bharat Times | Hindi News Portal | Latest News in Hindi : हिंदी न्यूज़ . Designed by OddThemes & Customised By News Portal Solution