BREAKING NEWS

Monday, 16 October 2017

रोहिंग्या शरणार्थियों को ले जा रही नाव डूबने से 12 की मौत , दर्जनों लापता


म्यामांर के रखाइन प्रांत से रोहिंग्या शरणार्थियों को बांग्लादेश लेकर जा रही एक नौका दोनों देशों को अलग करने वाली नदी में डूब गई। हादसे में कम से कम पांच लोगों की मौत हो गई और दर्जनों लापता हैं। बचकर भाग रहे रोहिंग्या समुदाय के लोग अकसर ऐसी त्रासदियों का शिकार होते हैं।






रखाइन प्रांत में रोहिंग्या मुसलमानों के खिलाफ हो रही हिंसा को संयुक्त राष्ट्र ने म्यामां अधिकारियों द्वारा ‘जातिय सफाया’ बताया है। अगस्त महीने में मुस्लिम उग्रवादियों के हमले के बाद म्यामां की सेना द्वारा ‘छानबीन अभियान’ के बाद रोहिंग्या समुदाय का प्रवास शुरू हुआ था। इस अवधि में अभी तक करीब एक दर्जन नौकाएं डूबने से लगभग 200 लोगों की मौत हुई है।

बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश के एरिया कमांडर लेफ्टिनेंट कर्नल एस. एम. आरिफ-उल-इस्लाम ने ‘एएफपी’ को बताया कि जब नौका आज सुबह नफ नदी में डूबी तब उसमें करीब 50 लोग सवार थे। चार बच्चों सहित पांच लोगों के शव मिले हैं। 21 व्यक्ति सुरक्षित बचे हैं।





इस्लाम ने कहा कि यह मछली पकड़ने वाली छोटी नौका थी। यह क्षमता से अधिक भरे होने के कारण डूब गई। शरणार्थी अक्सर शाह पोरिर द्वीप के लिए अत्याधिक शुल्क वसूलने का आरोप लगाते हैं। शाह पोरिर द्वीप म्यामां की सीमा के पार बांग्लादेश का एक तटीय गांव है। उन्होंने कहा कि तट रक्षक और सीमा गार्ड नफ नदी में बचाव एवं राहत अभियान चला रहे हैं। इससे करीब एक सप्ताह पहले नफ नदी के मुहाने पर रोहिंग्या समुदाय के सदस्यों से भरी एक अन्य नौका डूब गई थी। नदी का यह मुहाना म्यामां से भाग रहे मुस्लिम शरणाॢथयों के लिए कब्रिस्तान बन गया है।

"अखंड भारत टाइम्स" परिवार से जुड़ने के लिए ऑफिसियल पेज लाइक जरुर करें :

Share this:

Post a Comment

 
Copyright © 2014 Akhand Bharat Times | Hindi News Portal | Latest News in Hindi : हिंदी न्यूज़ . Designed by OddThemes & Customised By News Portal Solution