BREAKING NEWS

Tuesday, 24 October 2017

मेरे पुत्र को मंत्रिमंडल में शामिल करो वर्णा : जीतन राम मांझी

बिहार के ​पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी का जागा पुत्र प्रेम अब और सत्ता से दूरी बर्दास्त करने की स्थिति में नही है। उन्होंने अपने बेटे को मंत्री बनाने की पुरजोर वकालत की है। मांझी ने अपने पुत्र को मंत्री बनाये जाने के सवाल पर कहा कि वो पढ़ा लिखा है उसे मौका मिलना ही चाहिए। मांझी ने आगे कहा कि बिहार में जो आपराधिक घटनाएं हो रही है। वो सिर्फ सरकार को बदनाम करने की साजिश है जिस पर सरकार शख़्त कदम उठाने जा रही है।

आपको बता दें की एनडीए में शामिल सभी दलों में एक मांझी की हम पार्टी है जो सत्ता से दूर है। बिहार की एनडीए सरकार में जदयू, बीजेपी और एलजेपी के सदस्य शामिल हैं। तो वहीं केंद्र में रालोसपा को सत्ता में भागीदारी मिली है। परंतु मांझी को बिहार या केंद्र में कहीं भी कोई भागीदारी नही मिली है। एनडीए की सरकार के बिहार में बनने के बाद से ही माझी को बिहार और केंद्र के मंत्रिमंडल में जगह का इंतजार था।

मांझी ने अपने मन की बात को पत्रकारों के साथ वार्ता के दौरान रखा। मांझी ने बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री और स्वतंत्रता सेनानी श्रीकृष्ण सिंह को भारतरत्न देने की मांग का समर्थन किया। मांझी ने कहा कि श्रीकृष्ण सिंह को भारत रत्न दिया जाए इससे बिहार का मान सम्मान बढेगा। मांझी ने बिहार सरकार से भी कहा कि श्रीकृष्ण सिंह का नाम केंद्र को भेजे और इस संबंध में मांझी ने एक डेलिगेशन के साथ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाकात भी करेंगे।

पूर्व मुख्यमंत्री मांझी ने कहा कि अगले साल आठ अप्रैल को गांधी मैदान में एक रैली भी करेंगे। मांझी ने बताया कि रैली को लेकर छठ के बाद सभी तरह की औपचारिकता पूरी कर ली जाएगी। मांझी ने छठ महापर्व पर बिहार के लोगों को शुभकामना और बधाई देते हुए कहा कि छठी मईया का वरदान सब पर हो यही उनकी आशीष बनाये रखें।

आपको बता दें कि इस तरह की बातों के शुरू होने से ऐसा लगता है कि लोकसभा चुनाव से पूर्व के सियासी फायदे नुकसान, मोल जोल का दौर शुरू होने वाला है। बिहार में जब से नीतीश कुमार ने एनडीए के साथ मिल कर सरकार बनाया तब से मांझी खुद को थोड़ा असहज और असुरक्षित महशुस करने लगे हैं। उसी का प्रकटीकरण है उनका अपने पुत्र के लिए मंत्रिमंडल में स्थान देने की वकालत करना।

Share this:

Post a Comment

 
Copyright © 2014 Akhand Bharat Times | Hindi News Portal | Latest News in Hindi : हिंदी न्यूज़ . Designed by OddThemes & Customised By News Portal Solution